हरदोई में छुट्टा पशुओं को लेकर विरोध प्रदर्शन

0

12 जनवरी। उ.प्र. के नए मुख्य सचिव ने कार्य संभालते ही बताया कि छुट्टा पशुओं को लेकर सभी जिलों में अभियान चला कर उन्हें 1 से 10 जनवरी के बीच पकड़ा जाएगा। लेकिन जमीनी हकीकत क्या है इसका अंदाजा हरदोई जिले के भरावन विकास खण्ड के उदाहरण से समझा जा सकता है।

सोशलिस्ट किसान सभा लगभग एक वर्ष से खुले पशुओं का मुद्दा हरदोई, उन्नाव व बाराबंकी जिलों में उठा रही है। 1 जनवरी, 2022 को वि.ख. भरावन के ढेहुआ बाजार, से तिरवा ग्राम सभा के सैकड़ों ग्रामीण अपने जानवरों के साथ भटपुर मार्ग पर लखनऊ की ओर चल दिए, इस ऐलान के साथ कि वे अपने पशुओं को योगी आदित्यनाथ के यहां ले जाकर बांधेंगे ताकि मुख्यमंत्री उनके पोषण की जिम्मेदारी लें। रास्ते में अन्य गांवों के लोग भी अपने जानवरों के साथ जुड़ते गए। 7-8 किलोमीटर चलने पर उप-जिलाधिकारी व क्षेत्राधिकारी, सण्डीला, आए व करीब 17 गाड़ियां मंगवाकर तिरवा, दूलानगर, छावन, आदि गांवों के पशुओं को गौशालाओं में पहुंचाया। ऐरा काकेमऊ व भरावन के लोग माल मार्ग से अपने जानवरों के साथ 4 जनवरी को लखनऊ के लिए निकल पड़े।

करीब 15 किलोमीटर चलने पर जब लोग पशुओं के साथ लखनऊ जिले की सीमा में प्रवेश कर गए तब उप-जिलाधिकारी व ख.वि.अ. आए और वहीं सड़क के किनारे सांडा दखलौल ग्रा.स. में एक अस्थायी गौशाला बना कर पशुओं की वहीं व्यवस्था करने का निर्णय लिया गया। फिर 5 जनवरी को भटपुर ग्रा.स. के लोग पशुओं को लेकर करीब 5 किलोमीटर चलकर जब सीतापुर की सीमा में प्रवेश कर गए तब ख.वि.अधिकारी आए और सभी जानवरों की व्यवस्था एक हफ्ते में करने को कहा। तब तक मोहम्मदापुर के जखवा पावर हाऊस पर 110 पशु, बंजरा व लालपुर, दोनों ग्रा.स. ऐरा काकेमऊ मे क्रमशः 30 व 50, कौड़िया ग्रा.स. में गांवों कठौनी व मड़ौली में 200-200, भरावन में 130, दूलानगर में 50, जीवन खेड़ा में 20, श्यामदासपुर में 250, हन्नीखेड़ा में 150, ग्रा.स. हीरूपुर गुट्टैया में 150, ग्रा.स. महीठा के कल्याणखेड़ा व डालखेड़ा में 50-50, व ग्रा.स. भटपुर के भटपुर में 150, कूड़ा में 300, रसुलवा में 300, सिकरी में 50, गोकुलवा में 40, कोल्हौरा में 50, कटका कलां में 50, लक्ष्मणपुरवा में 50, रमपुरवा में 40, इैश्वरीपुरवा में 25 व धन्नापुरवा में 50 जानवर एकत्र कर लिये गए थे।

सभी जानवरों की व्यवस्था गौशालाओं में कर पाना प्रशासन के लिए सम्भव नहीं था। जिला प्रशासन ग्राम प्रधानों के ऊपर दबाव बना रहा है कि वे व्यवस्था करें किंतु ग्राम प्रधान कहते हैं कि बिना पैसे के वे कैसे व्यवस्था कर सकते हैं? कुछ गांवों में गाड़ियों भेजी गयीं जानवरों को लाने के लिए किंतु कुछ गाड़ियों ने गौशालाओं में जगह न होने के कारण जानवरों को बीच में ही उतार दिया तो कुछ गाड़ियां वापस लौट आयीं। अंत में तंग आकर लोगों ने इकट्ठा किए हुए जानवर छोड़ दिए। किसानों के लिए अपने खेत बचाना मुश्किल हो रहा है। सोशलिस्ट किसान सभा की मांग है कि सरकार प्रति जानवर रु. 30 प्रतिदिन सीधे किसान के खाते में पैसा भेजे ताकि किसान जानवर को पाल सकें।

असल में किसान सम्मान निधि और कुछ नहीं किसानों की फसल जो खुले जानवर बरबाद कर रहे हैं उसका मुआवजा है। लेकिन किसानों का नुकसान सालाना रु. 6,000 से कहीं ज्यादा है। हमारी मांग है कि सरकार किसानों को छुट्टा पशओं से हुए असल नुकसान का मुआवजा दे। छुट्टा पशु योगी आदित्यनाथ सरकार की देन हैं। किसान दोनों से ही तंग आ चुका है और दोनों से ही छुटकारा चाहता है।

– मुन्नालाल शुक्ल, प्रत्याशी, सण्डीला, 9935458998, अनिल मिश्र, प्रत्याशी, बांगरमऊ, 8707449208, संदीप पाण्डेय, 0522 2355978, 3564437

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here