असम में पुलिस हिरासत में मारे गए मछुआरे के परिवार पर यूएपीए

0

25 मई। मछुआरे की पत्नी और बेटी पर कथित रूप से थाने में आग लगाने का आरोप है। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, असम पुलिस ने बताया, कि 24 मई 2022 को “संदिग्ध आतंकवादी लिंक” के लिए गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) के तहत नवगांव जिले में एक पुलिस स्टेशन को आग लगाने के आरोपी छह लोगों में से पाँच पर केस दर्ज किया जाएगा।

मछली विक्रेता सफीकुल इस्लाम की पत्नी और उनकी नाबालिग बेटी ने स्थानीय पुलिस पर 10,000 रुपये की रिश्वत देने में विफल रहने पर इस्लाम की हत्या करने का आरोप लगाया। गुस्साई भीड़ थाने के बाहर जमा हो गई, जिसके बाद लोगों द्वारा आग लगाने का वीडियो वायरल हो रहा है।

नवगांव की पुलिस अधीक्षक लीना डोले ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया, कि वीडियो में दोनों महिलाओं को अपराध में लिप्त दिखाया गया है। अन्य आरोपी भी मृतक के परिवार के सदस्य हैं। जबकि वयस्कों को गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) के तहत आरोपों का सामना करना पड़ेगा, बेटी पर किशोर न्याय अधिनियम के नियमों के अनुसार मुकदमा चलाया जाएगा। यूएपीए का मामला ढिंग पुलिस स्टेशन के तहत दर्ज किया गया था, जिसका अधिकार क्षेत्र आरोपी के गाँव पर है।

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, पुलिस को अंसारुल्लाह बांग्ला टीम (एबीटी) के साथ परिवार के संबंध होने का संदेह था, जो एक प्रतिबंधित बांग्लादेशी आतंकवादी संगठन है। अखबार ने कहा, कि इस तरह के कथित संबंधों के लिए बारपेटा और बोंगईगांव जिलों में कम से कम 10 लोगों को गिरफ्तार किया गया था। डोले ने कहा कि एनआईए भी मामले की जाँच कर रही है। हालांकि, इस्लाम की मौत पर फोरेंसिक रिपोर्ट अभी तैयार नहीं है।

इस्लाम को शुक्रवार रात सार्वजनिक रूप से शराब पीने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। पुलिस का दावा है, कि अस्वस्थ होने के कारण उसकी मौत हुई है। हालांकि उनकी पत्नी ने कहा, कि अधिकारियों ने उन्हें रिहा करने के लिए एक बत्तख और ₹10,000 की माँग की। ऐसा न करने पर पुलिस ने उसके सामने ही उसकी पिटाई कर दी।

घटना के स्थानीय समाचार बनने के बाद, ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ) और कांग्रेस के विपक्षी नेताओं ने 23 मई को गाँव का दौरा किया और भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार की निंदा की और न्यायिक जाँच की माँग की।

इस बीच, पुलिस ने इस्लाम के मामले में ‘अप्राकृतिक मौत’ का मामला दर्ज किया है, हालांकि परिवार ने अधिकारियों पर हिरासत में हत्या का आरोप लगाया है। आगजनी के तुरंत बाद एक विध्वंस अभियान में इस्लाम के परिवार ने अपना घर खो दिया। फिर भी पुलिस का दावा है, कि निष्कासन एक नियमित प्रक्रिया का हिस्सा था।

(‘सबरंग इंडिया’ से साभार)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here