Home » 41 मजदूरों को सही सलामत बाहर निकालने के लिए

41 मजदूरों को सही सलामत बाहर निकालने के लिए

by Samta Marg
0 comment 147 views

उत्तर काशी टनल हादसे में 18 दिनों तक जिंदगी और मौत के बीच में फंसे सारे 41 मजदूरों को,

सही सलामत बाहर निकालने के लिए,तमाम बचाव कर्मियों का हार्दिक अभिनंदन करते हुए बेहद खुशी हो रही है!


सही सलामत निकलकर खुली हवा में सांस लेने वाले सभी मजदूरों की सामूहिक खुशनसीबी के लिये,

उन्हें भी हार्दिक बधाई????
लेकिन अब ये सवाल देश और दुनिया के सामने मुंह बाये खड़ा है कि क्या इस टनल हादसे की निष्पक्ष जांच होगी?


आखिर कौन करेगा इस हादसे की निष्पक्ष जांच?क्या किसी बेदाग जांच टीम को इस जांच की जिम्मेदारी सौंपी जाएगी?


अभी तक के भारतीय तजुर्बों, विशेष रूप से भाजपाई हुक्मरानी के दौर के तजुर्बों के तमाम संदेश तो बेहद निराशा जनक हैं।


मोरवी ब्रिज हादसा, बनारस ओवर ब्रिज हादसा, ट्रेन दुर्घटनाओं के तमाम हादसे,

और भी न जाने अब तक घट चुके अन्य तमाम हादसों की जांच के क्या कोई सकारात्मक नतीजे सामने आए हैं अब तक?


क्या इन हादसों के मुख्य कारक अर्थात भ्रष्टाचार के किस्से कभी उजागर हुए हैं?


क्या भ्रस्टाचार के दलदल में आकंठ डूबे सबसे बड़े और खूंखार अधिकारियों में से किसी एक को भी कभी कठोर दंड से दंडित किया गया है?


टनल हादसे का दूसरा सबसे बड़ा सबक तो ये है कि पर्यटन को कमाई का मुख्य उद्देश्य बनाकर,

पर्यावरण एवं प्रकृति संतुलन के साथ खिलवाड़ के मोदीस्वप्न को,

उत्तराखंड में घट चुके और लगातार घटते जा रहे ऐसे ही अनेक हादसों की कड़ी में जुड़ चुके इस टनल हादसे के बावजूद,

साकार करने की मोदीजी की जिद,

हिमालय का सर्वनाश करके ही शांत होगी?


उम्मीद की आखिरी किरण याने हमारी सुप्रीमकोर्ट भी इन यक्ष प्रश्नों पर स्वयमेव संज्ञान लेने से और देश के पर्यावरण के साथ न्याय करने से क्यों हिचकिचा रही है?

विनोद कोचर

You may also like

Leave a Comment

हमारे बारे में

वेब पोर्टल समता मार्ग  एक पत्रकारीय उद्यम जरूर है, पर प्रचलित या पेशेवर अर्थ में नहीं। यह राजनीतिक-सामाजिक कार्यकर्ताओं के एक समूह का प्रयास है।

फ़ीचर पोस्ट

Newsletter

Subscribe our newsletter for latest news. Let's stay updated!