Home » शाहजहांपुर बार्डर पर किसानों का जमावड़ा बढ़ा

शाहजहांपुर बार्डर पर किसानों का जमावड़ा बढ़ा

by Rajendra Rajan
0 comment 16 views

7 जुलाई। किसान आंदोलन हर गुजरते दिन तेज होता जा रहा है। आज बावल 84 से हजारों की संख्या में किसान साथी अपना समर्थन देने के लिए शाहजहांपुर बॉर्डर पर आए। कई किलोमीटर तक ट्रैक्टरों की लाइन, किसान साथियों का जोश, व उत्साह देखते ही बन रहा था। शाहजहांपुर बॉर्डर पर फूलों से उनका स्वागत योगेंद्र यादव, संस्थापक, जय किसान आंदोलन और दीपक लाम्बा, महासचिव जय किसान आंदोलन, किसान नेता अमराराम, राजाराम मील, प्रेमराम ने अन्य किसान नेताओं के साथ मिलकर किया।

इस मौके पर योगेंद्र यादव ने कहा कि किसान आंदोलन ने सर्दी देखी, गर्मी देखी, आंधियों का सामना भी किया, और किसान अब प्रधानमंत्री के अहंकार का सामना करने के लिए भी पूरी तरह तैयार हैं। किसान इस आंदोलन में जीत हासिल किए बिना घर वापस नहीं जाएगा।क्षयोगेंद्र यादव ने आगे कहा कि शाहजहांपुर बॉर्डर पर जो टेंट लगे हुए हैं उनका खूंटा हरियाण-पंजाब और राजस्थान के गांव-गांव में लगा हुआ है। तपती गर्मी भी किसानों को धरना स्थल पर आने से नहीं रोक पा रही है। मनोबल मजबूत है।

जय किसान आंदोलन के महासचिव दीपक लाम्बा ने कहा कि आंदोलन बिना अपनी मांगे मनवाए ठंडा नहीं होगा, यह वो आंदोलन है जिसे इतिहास में इसके जज्बे के लिए याद रखा जाएगा। आज जब किसान साथी कई किलोमीटर लंबा मार्च करके गाने-बाजे के साथ शाहजहांपुर बॉर्डर पर जुड़ रहे हैं तो यह इस बात के संकेत है कि किसान का जज्बा किसी भी सरकारी चाल से कम नही होगा।

इस मौके पर अमराराम जी ने कहा कि सात माह के आंदोलन में किसानों का आत्मसम्मान बढ़ा है। वहीं जात-पांत, धर्म से ऊपर उठकर एकता के सूत्र में बंध कर किसान अपनी लड़ाई खुद लड़ने में सक्षम हुआ है।

अब समय सरकार के नुमाइंदों का अहंकार तोड़ने का है। तीनों कृषि कानून जब तक वापस नहीं होते, आंदोलन चलता रहेगा। जब आंदोलन शुरू हुआ तब से 450 संगठन एकसाथ इस आंदोलन को चलाए हुए हैं। सरकार ने इस एकता को तोड़ने का भरसक प्रयास किया लेकिन कामयाब नहीं हो पायी। किसानों ने आंदोलन में शांति और सजगता के साथ चलना सीख लिया है। अब इस आंदोलन में किसान की जीत निश्चित है।

– जय किसान आंदोलन, मीडिया टीम

You may also like

Leave a Comment

हमारे बारे में

वेब पोर्टल समता मार्ग  एक पत्रकारीय उद्यम जरूर है, पर प्रचलित या पेशेवर अर्थ में नहीं। यह राजनीतिक-सामाजिक कार्यकर्ताओं के एक समूह का प्रयास है।

फ़ीचर पोस्ट

Newsletter

Subscribe our newsletter for latest news. Let's stay updated!