Home » हिंदू और मुसलमान – राममनोहर लोहिया : पहली किस्त

हिंदू और मुसलमान – राममनोहर लोहिया : पहली किस्त

by Rajendra Rajan
0 comment 30 views

(देश में इस वक्त जो हालात हैं और जो राजनीतिक-सामाजिक चुनौतियां दरपेश हैं उनके मद्देनजर सभी संजीदा एवं संवेदनशील लोग हिंदुओं और मुसलमानों के बीच अविश्वास की खाई पाटने तथा सौहार्द का रिश्ता मजबूत व जनव्यापी बनाने की जरूरत शिद्दत से महसूस करते हैं। इस तकाजे की एक समझ और दृष्टि बने, इस मकसद से डॉ राममनोहर लोहिया का 3 अक्टूबर 1963 को हैदराबाद में दिया गया भाषण बहुत मौजूं है। यह भाषण हिंदू और मुसलमान शीर्षक से छपता रहा है। हमने इसे आईटीएम यूनिवर्सिटी, ग्वालियर से प्रकाशित पुस्तिका से लिया है, जिसमें लोहिया का एक और प्रसिद्ध प्रतिपादन हिंदू बनाम हिंदू भी संकलित है।)

मेरी तबियत है कि मैं आपसे सिर्फ हिंदू-मुसलमान और हिंदुस्तान-पाकिस्तान के सवाल पर कुछ बोलूं, क्योंकि हैदराबाद उन दो शहरों में एक है जहां के लोग अगर चाहें तो हिंदू-मुसलमान सवाल को हल करने की बड़ी पहल कर सकते हैं। दूसरा शहर आप जानते ही हो, लखनऊ है। हैदराबाद में वैसे तो हिंदुस्तान के हरेक शहर में, जितनी जान होनी चाहिए उतनी नहीं है, यहां और भी है। उसके क्या सबब हैं,  लंबे-चौड़े सबब मुझे यहां बताने नहीं हैं, आप सब जानते हो।

हिंदू और मुसलमान इस शहर में करीब-करीब बराबर हैं। हिंदू-मुसलमान और हिंदुस्तान-पाकिस्तान इन दो सवालों को लेकर कहीं उऩके दिमाग सुधर पाएं तो गजब हो सकता है। दिमाग सुधारने के लिए मेरी राय में सबसे जो बड़ी चीज है, वह है नजर, जिससे इतिहास की तरफ देखा जाता है। वैसे तो हिंदू-मुसलमान में फर्क धर्म का है, लेकिन उसपर मैं कुछ नहीं कहूंगा। हिंदू चाहे जितना उदार हो जाए फिर भी अपने राम और कृष्ण को मोहम्मद से कुछ थोड़ा अच्छा समझेगा ही, और मुसलमान चाहे जितना उदार हो जाए, अपने मोहम्मद को राम और कृष्ण से कुछ थोड़ा अच्छा समझेगा ही। लेकिन इतना ज्यादा नहीं होना चाहिए। उन्नीस-बीस से ज्यादा का फर्क न रहे तो दोनों का मन ठीक हो सकता है। इतना तो मुझे धर्म के बारे में कहना है, इससे ज्यादा नहीं।

असल चीज है, इतिहास पर कौन-सी नजर रखें क्योंकि आखिर जब हम हिंदू और मुसलमान की बात करते हैं तो हवा में नहीं, अरब के मुसलमान की नहीं, हिंदुस्तान के मुसलमान की, और हिंदुस्तान का मुसलमान तो आखिरकार हिंदू का भाई है, अरब के मुसलमान का तो है नहीं। जब रिश्ता नहीं, तो समझ ही नहीं पाएंगे। दो दिन रह जाएं तो कुढ़ने लग जाएंगे, एक –दूसरे को गाली नहीं दे पाएंगे।

आमतौर से जो भ्रम हिंदू और मुसलमान, दोनों के मन में है, वह यह कि हिंदू सोचता है पिछले 700-800 वर्ष तो मुसलमानों का राज रहा, मुसलमानों ने जुल्म किया और अत्याचार किया, और मुसलमान सोचता है, चाहे वह गरीब से गरीब क्यों न हो कि 700-800 वर्ष हमारा राज था, अब हमको बुरे दिन देखने पड़ रहे हैं।

हिंदू और मुसलमान दोनों के मन यह गलतफहमी धंसी हुई है। यह सच्ची नहीं है। अगर सच्ची होती तो इसपर मैं कुछ नहीं कहता। असलियत यह है कि पिछले 700-800 वर्ष में मुसलमान ने मुसलमान को मारा है। मारा है, कोई रूहानी अर्थ में नहीं, जिस्मानी अर्थ में मारा है। तैमूरलंग जब चार-पांच लाख आदमियों का कत्ल करता है, तो उसमें से 3 लाख तो मुसलमान थे, पठान मुसलमान थे जिनका कत्ल किया। कत्ल करने वाला मुगल मुसलमान था। यह चीज अगर मुसलमानों के घर-घर में पहुंच जाए कि कभी तो मुगल मुसलमान ने पठान मुसलमान का कत्ल किया और कभी अफ्रीकी मुसलमान ने मुगल मुसलमान का, तो पिछले 700 वर्ष का वाकया लोगों के सामने अच्छी तरह से आने लग जाएगा कि यह हिंदू-मुसलमान का मामला नहीं है, यह तो देशी-परदेशी का है।

सबसे पहले अरब के या और कहीं के मुसलमान आए। वे परदेशी थे। उन्होंने यहां के राज को खत्म किया। फिर वे धीरे-धीरे सौ-पचास वर्ष में देशी बने लेकिन जब वे देशी बन गए तो फिर एक दूसरी लहर परदेशियों की आयी, जिसने इन देशी मुसलमानों को उसी तरह से कत्ल किया जिस तरह से हिंदुओं को। फिर वे परदेशी भी सौ-पचास वर्ष में देशी बन गए और फिर दूसरी लहर आयी। हमारे मुल्क की तकदीर इतनी खराब रही है, पिछले 700-800 वर्ष में, कि देशी तो रहा है नपुंसक और परदेशी रहा है लुटेरा, या समझो जंगली और देशी रहा है नपुंसक। यह है हमारे 700 वर्ष के इतिहास का नतीजा।

इस बात को हिंदू और मुसलमान दोनों समझ जाते हैं तो फिर नतीजा निकलता है कि हरेक बच्चे को सिखाया जाए, हरेक स्कूल में, घर-घऱ में, क्या हिंदू क्या मुसलमान बच्ची-बच्चे को कि रजिया, शेरशाह, जायसी वगैरह हम सबके पुरखे हैं, हिंदू और मुसलमान दोनों के।

मैं यह कहना चाहता हूं कि रजिया, शेरशाह, और जायसी को मैं अपने माँ-बाप में गिनता हूं। यह कोई मामूली बात इस वक्त मैंने नहीं कही है। लेकिन, उसके साथ-साथ मैं चाहता हूं कि हममें से हरेक आदमी, क्या हिंदू क्या मुसलमान, यह कहना सीख जाए कि गजनी, गोरी और बाबर लुटेरे थे और हमलावर थे।

यह दोनों जुमले साथ-साथ हों, हिंदू और मुसलमान दोनों के लिए कि गजनी, गोरी और बाबर हमलावर और लुटेरे थे, सारे देश के लिए परदेशी होते हुए देशी लोगों की स्वाधीनता को खत्म करनेवाले लोग थे और रजिया, शेरशाह और जायसी वगैरह हमारे पुरखे थे। अगर 700 वर्ष को देखने की यह नजर बन जाए तो फिर हिंदू और मुसलमान दोनों पिछले 700 वर्ष को अलग-अलग निगाह से नहीं देखेंगे, लड़ाई करनेवाली निगाह से नहीं देखेंगे, फिर वे देखने लग जाएंगे, जोड़नेवाली निगाह से कि हमारे इतिहास में यह तो मामला था देशी का, यह था परदेशी का, यह अपने, यह थे पराए और दोनों का नजरिया एक हो जाएगा।

जब हम इतनी दूर पहुंच जाते हैं तो फिर मैं उससे आज के लिए कुछ नतीजा निकालना चाहता हूं। आज हिंदू और मुसलमान दोनों को बदलना पड़ेगा। दोनों के मन बिगड़े हुए हैं। सबसे पहले तो जो बात मैंने आपके सामने रखी, उसी मामले में। कितने हिंदू हैं जो कहेंगे कि शेरशाह उनके बाप-दादों में हैं, और कितने मुसलमान हैं जो कहेंगे कि गजनी, गोरी लुटेरे थे? मैं बोल रहा हूं, इसलिए वह बात अच्छी लग रही है, लेकिन जब आप घऱ लौटोगे, तो कोई न कोई शैतान आपको सुना देगा, देखा, कैसी वाहियात बातें सुनकर आए हो, अगर गजनी-गोरी नहीं आए होते तो मुसलमान होते ही कहां से? देखा,शैतान किस बोली से बोलता है। तो इसका मतलब इस्लाम य़ा मोहम्मद, नहीं वह तो गजनी-गोरी से है। जरा इसके नतीजे सोच लेना कि क्या होते हैं।

और, उसी तरह से, शैतान की बोली होगी, देखा, कैसा वह बोलनेवाला था, वह तुम हिंदुओं के बाप-दादे शेरशाह को बना दिया। अच्छी तरह से सोच-विचार करके, अपने मन को, खोपड़ी को एक तरह से तराश करके, उलट करके जो कुछ भी गंदगी उसमें पिछले 700-800 वर्ष की भरी हुई है, उसको साफ करके फिर उस जुमले पर आना और फिर सोचना कि हिंदू और मुसलमान दोनों का मन बदलना बहुत जरूरी हो गया है।

(अगली किस्त कल )

You may also like

Leave a Comment

हमारे बारे में

वेब पोर्टल समता मार्ग  एक पत्रकारीय उद्यम जरूर है, पर प्रचलित या पेशेवर अर्थ में नहीं। यह राजनीतिक-सामाजिक कार्यकर्ताओं के एक समूह का प्रयास है।

फ़ीचर पोस्ट

Newsletter

Subscribe our newsletter for latest news. Let's stay updated!