Home » पटना में तीन दिवसीय ऐतिहासिक किसान-मजदूर महापड़ाव का जोरदार समापन

पटना में तीन दिवसीय ऐतिहासिक किसान-मजदूर महापड़ाव का जोरदार समापन

by Samta Marg
0 comment 137 views

संयुक्त किसान मोर्चा | केंद्रीय श्रमिक संगठन

पटना में तीन दिवसीय ऐतिहासिक किसान-मजदूर महापड़ाव का जोरदार समापन

तीन दिन चले महापड़ाव से बिहार के किसानों और मजदूरों ने एकता और एकजुटता का संदेश दिया और मोदी सरकार की कॉरपोरेट-सांप्रदायिक गठजोड़ के खिलाफ तेज संघर्ष का ऐलान किया

ऐतिहासिक किसान-मजदूर महापड़ाव का ऐलान: जो किसान मजदूर की बात करेगा, वही देश पर राज करेगा

संयुक्त किसान मोर्चा और केन्द्रीय श्रमिक संगठनों के संयुक्त देशव्यापी आह्वान पर मोदी सरकार की कॉरपोरेट-सांप्रदायिक गठजोड़ के खिलाफ किसानों-मजदूरों की 23 सूत्री मांगों को लेकर पटना के गर्दनीबाग में आयोजित ऐतिहासिक “किसान-मजदूर महापड़ाव” का जोरदार नारों के साथ समापन हुआ। इस ऐतिहासिक महापड़ाव के तीसरे दिन दस हजार से अधिक किसान और मजदूर केन्द्र सरकार की किसान-विरोधी, मजदूर-विरोधी, जन-विरोधी और राष्ट्र-विरोधी नीतियों के खिलाफ एकजुट हुए।

संयुक्त किसान मोर्चा और केन्द्रीय श्रमिक संगठनों ने 24 अगस्त , 2023 को दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में आयोजित “अखिल भारतीय मजदूर किसान संयुक्त सम्मेलन” में 26-27-28 नवम्बर 2023 को देशभर की सभी राज्यों की राजधानियों में तीन दिवसीय किसान मजदूर महापड़ाव का आह्वान किया था। तीन वर्ष पूर्व, 26 नवंबर 2020 को ही “दिल्ली चलो” आह्वान के साथ ऐतिहासिक किसान आंदोलन की शुरुआत हुई थी, जिसने केंद्र सरकार की कॉरपोरेटपरस्त नीति के खिलाफ एक लंबी लड़ाई लड़ी। आज इस ऐतिहासिक मौके पर देशभर के किसान और मजदूर अपनी मांगों को लेकर फिर एकजुट हुए।

किसान-मजदूर महापड़ाव के माध्यम से एमएसपी की कानूनी गारंटी करने, चार श्रम संहिताओं को रद्द करने, योजनाकर्मियों को नियमित करने, पुरानी पेंशन स्कीम (ओपीएस) को पुनः बहाल करने, बिहार में एपीएमसी अधिनियम को पुनः बहाल करने, बटाईदार किसानों का निबंधन करने, किसानों को उनकी जमीन का उचित मुआवजा देने, प्रगतिशील भूमि सुधार को लागू करने, युवाओं को रोजगार देने, निजीकरण को बंद करने, मनरेगा की मजदूरी और कार्यदिवस बढ़ाने, महंगाई पर रोक लगाने, खाद्य सुरक्षा की गारंटी करने, सहित अन्य मांगों को उठाया गया।

महापड़ाव में सीटू, ऐक्टू, एटक, एआईयूटीयूसी , टीयूसीसी, यूटीयूसी, इंटक, बिहार राज्य किसान सभा (केदार भवन), बिहार राज्य किसान सभा (जमाल रोड), अखिल भारतीय किसान महासभा, अखिल भारतीय किसान खेत मजदूर संगठन, जय किसान आंदोलन, अखिल भारतीय खेत मजदूर किसान सभा, अखिल भारतीय किसान मजदूर सभा, बिहार किसान समिति, क्रांतिकारी किसान यूनियन, जन आंदोलनों का राष्ट्रीय समन्वय (एनएपीएम), अग्रगामी किसान सभा, जल्ला किसान संघर्ष समिति, ऑल इंडिया किसान फेडरेशन, स्वामी सहजानंद विचार मंच, किसान मजदूर विकास संगठन से जुड़े हजारों मजदूर किसान शामिल हुए। 

महापड़ाव की अध्यक्षता एटक के गजनफर नवाब, ऐक्टू की सरोज चौबे, सीटू के दीपक भट्टाचार्य, इंटक के अखिलेश पांडे, यूटीयूसी के बीरेंद्र ठाकुर, अखिल भारतीय किसान महासभा के राजेंद्र पटेल, बिहार राज्य किसान सभा (जमाल रोड) के प्रभुराज नारायण राव, क्रांतिकारी किसान यूनियन के मनोज कुमार, अखिल भारतीय खेत मजदूर किसान सभा के नंद किशोर सिंह, ऑल इंडिया किसान खेत मजदूर संगठन के इंद्रदेव राय ने की। 

संयुक्त किसान मोर्चा से जुड़े किसान संगठनों की तरफ से अखिल भारतीय किसान महासभा (बिहार) के राष्ट्रीय महासचिव राजा राम सिंह और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवसागर शर्मा, बिहार राज्य किसान सभा (जमाल रोड) के महासचिव विनोद कुमार, बिहार राज्य किसान सभा (केदार भवन) के सचिव रवींद्रनाथ राय, अखिल भारतीय किसान खेत मजदूर संगठन के नेता उमाशंकर वर्मा, बिहार किसान समिति के नेता पुकार, अखिल भारतीय खेत मजदूर किसान सभा के प्रांतीय अध्यक्ष उदय चौधरी, जल्ला किसान संघर्ष समिति के नेता अजीत कुमार यादव, अखिल भारतीय किसान मजदूर सभा के नेता रामचंद्र सिंह, क्रांतिकारी किसान यूनियन के नेता रामानुज कुमार, एनएपीएम के नेता रंजीत पासवान, जय किसान आन्दोलन के नेता ऋषि आनंद,ऑल इंडिया किसान फेडरेशन के नेता प्रमोद कुमार झा ने महापड़ाव को संबोधित किया।

केंद्रीय ट्रेड यूनियनों की तरफ से एटक के नेता सूर्यकांत पासवान और अजय कुमार, सीटू के नेता आरएस रॉय और अजय कुमार, ऐक्टू की नेता रणविजय कुमार और वीरेंद्र गुप्ता, एआईयूटीयूसी के नेता सूर्यकर जितेंद्र, इंटक के नेता अखिलेश पांडे और दिलीप पांडे, टीयूसीसी के नेता अनिल शर्मा, यूटीयूसी के नेता जितेंद्र शर्मा ,ऑल इंडिया फेडरेशन ऑफ ट्रेड यूनियन (न्यू) के प्रांतीय संयोजक अजीमुल्ला अंसारी ने महापड़ाव को संबोधित किया।

महापड़ाव का समापन अखिल भारतीय खेत मजदूर किसान सभा के नेता नन्द किशोर सिंह के अध्यक्षीय भाषण और एक्टू की नेता सरोज चौबे के धन्यवाद ज्ञापन से हुआ।

महापड़ाव का संचालन बिहार राज्य किसान सभा (जमाल रोड) के महासचिव विनोद कुमार, अखिल भारतीय किसान महासभा के राज्य सचिव उमेश सिंह, अखिल भारतीय किसान मजदूर सभा के राज्य महासचिव शंभू प्रसाद सिंह, अखिल भारतीय खेत मजदूर किसान सभा के नेता नन्द किशोर सिंह, बिहार राज्य किसान सभा (केदार भवन) के महासचिव अशोक प्रसाद सिंह, जय किसान आन्दोलन के नेता ऋषि आनन्द, एनएपीएम के नेता उदयन चन्द्र राय, अखिल भारतीय किसान खेत मजदूर संगठन के नेता इन्द्रदेव राय, बिहार किसान समिति के नेता पुकार, ऑल इंडिया किसान फेडरेशन के नेता जमीरूद्दीन अंसारी, क्रांतिकारी किसान यूनियन के नेता मनोज कुमार, जल्ला किसान संघर्ष समिति के सचिव शंभूनाथ मेहता, एटक के महासचिव अजय कुमार, सीटू के महासचिव अनुपम कुमार, ऐक्टू के महासचिव आर. एन. ठाकुर, इंटक के नेता अखिलेश पांडेय, एआईयूटीयूसी के नेता सूर्यकर जीतेन्द्र, टीयूसीसी के नेता अनिल कुमार शर्मा, यूटीयूसी के नेता बीरेंद्र ठाकुर ने किया।

You may also like

Leave a Comment

हमारे बारे में

वेब पोर्टल समता मार्ग  एक पत्रकारीय उद्यम जरूर है, पर प्रचलित या पेशेवर अर्थ में नहीं। यह राजनीतिक-सामाजिक कार्यकर्ताओं के एक समूह का प्रयास है।

फ़ीचर पोस्ट

Newsletter

Subscribe our newsletter for latest news. Let's stay updated!