Home Tags Anamika Anu

Tag: Anamika Anu

अनामिका अनु की कविताएँ

1.लोकतंत्र   खरगोश बाघों को बेचता था फिर अपना पेट भरता था बिके बाघ खरीदारों को खा गये फिर बिकने बाजार में आ गये   2. लड़कियाँ जो दुर्ग होती हैं   जाति को कूट पीस...

चर्चित पोस्ट

लोकप्रिय पोस्ट