Home Tags Death of democratic institutions in india

Tag: death of democratic institutions in india

अथातो ज़िन्न जिज्ञासा

— राजेश प्रसाद — - गुरुदेव, आदमी मरकर भूत बनता है और औरतें मरकर चुड़ैल बनती हैं। ये ज़िन्न कहां से...? - तुम्हारी जिज्ञासा अत्यंत समीचीन...

चर्चित पोस्ट

लोकप्रिय पोस्ट