शुक्रवार और शनिवार को भाजपा नेताओं के पुतले जलाये गये

0

16 अक्टूबर। संयुक्त किसान मोर्चा  के आह्वान के अनुसार पूरे भारत में शुक्रवार और शनिवार को, बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक के रूप में नरेंद्र मोदी, अमित शाह, नरेंद्र सिंह तोमर, योगी आदित्यनाथ, मनोहर लाल खट्टर, अजय मिश्रा टेनी और अन्य भाजपा नेताओं का पुतला दहन किया गया। संयुक्त किसान मोर्चा ने पहले स्पष्ट किया था कि स्थानीय स्थिति के आधार पर, कार्यक्रम 15 अक्टूबर (दशहरा के दिन) या 16 अक्टूबर को किया जा सकता है। इस कार्यक्रम को लेकर कई राज्यों से खबरें आयी हैं। उत्तर प्रदेश में, पुतला दहन के कार्यक्रमों  को रोकने के लिए यूपी पुलिस द्वारा किसान नेताओं को  हिरासत में लेने और नजरबंद करने की कई रिपोर्टें आयी हैं। एसकेएम यूपी पुलिस के इस दमन की निंदा करता है। प्रशासन की ओर से इस तरह की दमनात्मक कार्रवाई के बावजूद सभी जगहों पर कार्यक्रम शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हुआ। मधयप्रदेश में देखा गया कि जहाँ किसान पुतला दहन के लिए जुटे थे वहीं गुना, छिंदवाड़ा, ग्वालियर और अन्य जगहों पर पुतला जलाने से पुलिस उन्हें जबरन रोक रही थी। अलीराजपुर  और अन्य जिलों में मुकदमे भी दर्ज किये गये। तमिलनाडु के करूर में भाजपा कार्यकर्ताओं ने एसकेएम के प्रदर्शनकारियों को पुतला जलाने से रोकने के लिए उनपर हमला करने की कोशिश की। शुक्रवार ओड़िशा में भी कई जगहों पर पुतला दहन किया गया। पंजाब में सैकड़ों स्थानों पर शनिवार को पुतला दहन के कार्यक्रम उत्साहपूर्वक किये गये।

संयुक्त किसान मोर्चा सिंघू बॉर्डर पर हुई यातनापूर्ण हत्या की निंदा करते हुए इसमें धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचाकर बेअदबी और अशांति को बढ़ावा देकर आंदोलन को बाधित करने की साजिश के आरोप की जाँच की मांग भी की है। मृतक के गाँव और परिवार से प्राप्त हुई मीडिया रिपोर्टों से ऐसा प्रतीत होता है कि उसे कई दिनों गोपनीय कॉल आ रहे थे जिसे वह एकांतता से बात करता था। माना जाता है कि मृतक लखबीर सिंह ने अपनी बहन से कहा था कि उसकी पहुंच बढ़ गई है। माना जाता है कि गाँव में एक शादी के बाद, वह एक निहंग सिख की पोशाक में किसी व्यक्ति के साथ चला गया और तब से सिंघू मोर्चा में एक निहंग समूह के साथ रह रहा था। ये सारी सूचनाएं किसी न किसी तरह की गहरी साजिश की ओर इशारा करती हैं। संयुक्त किसान मोर्चा का यह भी कहना है कि विभिन्न सीमाओं  के बावजूद आंदोलन लगातार मजबूत होता रहा है और शांति और अहिंसा के मूलाधार के चलते ऐतिहासिक आंदोलन तेजी से आगे बढ़ता रहेगा।

ग्लोबल हंगर इंडेक्स

शनिवार को विश्व खाद्य दिवस था। खाद्यान्न, दूध, फल और सब्जियां, मत्स्य आदि के रिकॉर्ड उत्पादन के बावजूद, भारत ग्लोबल हंगर इंडेक्स में पिछले साल के 107 देशों में से 94 से इस साल फिसलकर 116 देशों में से 101वें पायदान पर पहुँच गया है। हालांकि भारत सरकार सूची में भारत की रैंकिंग का विरोध कर रही है, लेकिन भूख और कुपोषण की व्यापक अस्वीकार्य परिस्थितियों से इनकार नहीं किया जा सकता है, भले ही रैंकिंग पर सवाल उठाया जाए। सिर्फ उत्पादन नहीं बल्कि भरे सार्वजनिक अन्न भंडार जो जरूरतमंदों तक नहीं पहुंचते हैं को देखने की जरूरत है।  तथ्य यह है कि सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत सुनिश्चित भारत की खाद्य सुरक्षा टोकरी को वास्तविक पोषण प्रदान करने के लिए विविधीकृत नहीं किया गया है, यह किसानों और उपभोक्ताओं (कई उदाहरणों में, ये अतिव्यापी श्रेणियां हैं), साथ ही साथ हमारे पर्यावरण दोनों के लिए नुकसान का सौदा है। तीन किसान विरोधी कानूनों और अन्य नीतियों द्वारा हमारे खाद्य और कृषि प्रणालियों में निगमीकरण को बढ़ावा दिया जा रहा है, जो वास्तव में समस्याजनक है और वर्तमान किसान आंदोलन इसी के खिलाफ है। यह आंदोलन हमारे खाद्य और कृषि प्रणालियों पर कॉर्पोरेट नियंत्रण का विरोध करते हुए हमारे खाद्य प्रणालियों में समता, व्यवहार्यता, संवहनीयता और पोषण सुरक्षा स्थापित करने की कोशिश कर रहा है। रहा है, धान को इथेनॉल उत्पादन में बदलने, और ऐसे कई कमीवादी गैर-समाधान शामिल हैं।

किसान महापंचायतें

इस समय कई राज्यों के विभिन्न स्थलों पर किसान महापंचायतें हो रही हैं। शनिवार को रोहतक में एक किसान महापंचायत में भारी उपस्थिति देखने को मिली जिसकी तैयारी कई दिनों से चल रही थी। यह मकरौली टोल प्लाजा पर आयोजित की गयी थी। पंजाब के फिरोजपुर जिले के जीरा में शुक्रवार को ऐसी ही एक महापंचायत में हजारों किसान एकत्र हुए जिन्हें एसकेएम के कई नेताओं ने संबोधित किया। इससे पहले 11अक्टूबर को होशियारपुर में मुकेरियां हरसा-मानसर टोल प्लाजा पर महापंचायत थी जिसमें पंजाब के किसानों के अलावा हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर के किसानों ने भी भाग लिया था। 17 अक्टूबर को उत्तर प्रदेश के अमरोहा (जोया रोड पर जोई के मैदान) में एक विशाल महापंचायत आयोजित की जा रही है।

ग्रामीण महिला दिवस

शुक्रवार को अंतरराष्ट्रीय ग्रामीण महिला दिवस था। भारत में इस दिन को महिला किसान दिवस के रूप में मनाया जाता है।  भारतीय अर्थव्यवस्था में कामगारों के रूप में गिनी जानेवाली अधिकांश ग्रामीण महिलाएं कृषि में लगी हुई हैं। महिला किसानों द्वारा लगाए गए श्रम और कौशल के बिना भारतीय कृषि संभव नहीं होगी। वे देश के खेतों के साथ-साथ रसोई में अपने श्रम के आधार पर देश की अन्नदाता हैं। संयुक्त किसान मोर्चा ने हमारी खेती और खाद्य सुरक्षा में महिला किसानों के अपार योगदान को सलाम करते हुए इस आंदोलन ने उनके योगदान और भागीदारी को स्पष्ट करने की कोशिश की है, और अधिक महिला किसानों को संघर्ष में शामिल होने और आंदोलन को अपनी अनूठी ताकत देने के लिए आमंत्रित किया है।

अन्य संघर्ष

संयुक्त किसान मोर्चा किसान आंदोलन के हिस्से के रूप में कई छोटे किसानों के संघर्षों के फलीभूत होने को सराहना और सम्मान देता है। ऐसी ही एक गतिविधि आंदोलन के प्रभाव के कारण हिमाचल प्रदेश में धान खरीद केंद्रों का शुरू होना है। एसकेएम की मांग है कि धान की खरीद हर जगह शुरू की जाए और किसानों को बिना किसी देरी के उचित और तुरंत भुगतान किया जाए।

ईंधन और महँगा

एसकेएम ने यह भी नोट किया कि ईंधन की कीमतों में फिर से वृद्धि हुई है, डीजल 100 रुपये प्रति लीटर से अधिक, पेट्रोल 110 रुपये प्रति लीटर से अधिक और रसोई गैस 1000 रुपये प्रति सिलेंडर के करीब है। देश के विभिन्न हिस्सों में विनियमित और सुचारु उर्वरक आपूर्ति की भी कमी है। एसकेएम की माँग है कि भारत सरकार द्वारा ईंधन की कीमतों को तुरंत आधा किया जाए, और बेईमान तत्त्वों द्वारा जमाखोरी और कालाबाजारी की कोई गुंजाइश न रखते हुए उर्वरकों की आपूर्ति की व्यवस्था की जाए।

टेनी पर पीएम की चुप्पी

संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा है कि अजय मिश्रा टेनी के संबंध में मोदी सरकार की ओर से नैतिक रूप से जिम्मेदार प्रतिक्रिया की कमी पर वह हैरान है। यूपी भाजपा के एक नेता ने अब माना है कि अजय मिश्रा लखीमपुर खीरी किसान हत्याकांड के सूत्रधार हैं। इससे पहले, यूपी भाजपा अध्यक्ष ने खुद इस घटना की ओर इशारा करते हुए भाजपा कार्यकर्ताओं से कहा कि वे राजनीतिक नेतृत्व के बारे में ऐसा न सोचें जो उन्हें लोगों को कुचलने की अनुमति देता है। भाजपा का एक सांसद लगातार हिंदू-सिख तनाव भड़काने की साजिश ओर इशारा कर रहा है। ऐसी पृष्ठभूमि में, यह वाकई चौंकानेवाली बात है कि मोदी सरकार अजय मिश्रा टेनी के खिलाफ कार्रवाई करने से कतरा रही है। एसकेएम ने एक बार फिर मांग की है कि अजय मिश्रा टेनी को मंत्रिपरिषद से बर्खास्त कर तत्काल गिरफ्तार किया जाए।

संयुक्त किसान मोर्चा ने इसपर हैरानी जतायी है कि यूपी पुलिस ने अभी तक एसकेएम नेता और तराई किसान संगठन के प्रमुख तजिंदर सिंह विर्क का बयान दर्ज नहीं किया है।  एसकेएम का मानना है कि उनके या अन्य चश्मदीद गवाहों के बयान दर्ज नहीं किये जाने से इस हत्याकांड में आवश्यक जांच और न्याय के संबंध में शुरू से ही व्यक्त की जा रही आशंकाओं को बल मिलेगा।

पराली का मसला

संयुक्त किसान मोर्चा इस बात की वकालत करता रहा है कि पराली जलाने के लिए किसानों को दंडित करना वायु गुणवत्ता के मसले का समाधान नहीं है, और यह आंदोलन की प्रमुख मांगों में से एक रही है। एसकेएम का कहना है कि पराली जलाना केवल, दिल्ली की राजधानी क्षेत्र की वायु गुणवत्ता का ही मामला नहीं है, जो मामूली तरीके से साल के कुछ दिनों के लिए होता है, बल्कि किसानों के उत्पादक संसाधनों के खराब होने और ग्रामीण क्षेत्रों में उनके स्वयं के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव का भी मुद्दा है। हालांकि, केंद्र सरकार के प्रतिनिधिमंडल के साथ औपचारिक बातचीत के दौरान एसकेएम को आश्वासन के बावजूद, भारत सरकार ने एक नया कानून बनाया जो किसानों पर जुर्माना लगाने की अनुमति देता है।

एसकेएम ने एक बार फिर यह मांग की है कि इस प्रावधान को कानून से हटा दिया जाए, और यह इंगित करता है कि इसके अनुभवजन्य साक्ष्य उपलब्ध हैं कि पर्यावरणीय खेती को बढ़ावा देने, और किसानों को प्रति किलो या प्रति एकड़ प्रोत्साहन के रूप में और पुआल जलाने को रोकने के लिए भुगतान समर्थन प्रणाली के सकारात्मक नतीजे सामने आए हैं। सुप्रीम कोर्ट का आदेश भी है जिसमें किसानों के लिए इस तरह के भुगतान की व्यवस्था करने के लिए कहा गया है, लेकिन जोकि लागू नहीं किया गया है। एसकेएम ने ऐसे समाधानों को बढ़ावा देने और तुरंत लागू करने  की मांग की है।

उत्तर प्रदेश में, राज्य सरकार के मंत्री श्री बलदेव सिंह औलख को गुरुवार को शांतिपूर्ण काले झंडे के विरोध का सामना करना पड़ा। एसकेएम ने भाजपा नेताओं को इस तरह के विरोधों के फैलने की चेतावनी दी है।

शनिवार को बाबा बंदा सिंह बहादुर की जयंती थी, जिन्होंने जागीरदारों से जमीन लेकर जोतनेवालों को जमीन का मालिक बनाया। संयुक्त किसान मोर्चा ने इस दिन उन्हें श्रद्धापूर्वक याद किया।

संयुक्त किसान मोर्चा की विज्ञप्ति के मुताबिक यह दुखद जानकारी मिली कि शनिवार को सिंघू मोर्चा पर आग लग गयी जिसमें कई टेंट जलकर खाक हो गये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here