उर्वरक की कालाबाजारी रोके सरकार – किसान मोर्चा

0

31 अक्टूबर। देश के विभिन्न जिलों से डीएपी जैसे रासायनिक उर्वरक मिलने में गंभीर कठिनाइयों के बारे में खबरें से आ रही हैं, जिसमें लंबी कतारों और यहां तक ​​कि एक किसान के आत्महत्या का मामला भी शामिल है। संयुक्त किसान मोर्चा ने मांग की है कि भारत सरकार तुरंत उर्वरकों की आपूर्ति को सुचारु करे, कालाबाजारी को रोके और मूल्यवृद्धि को तुरंत नियंत्रित करे।

टिकरी मोर्चा पर, पिछले कई महीनों से विरोध कर रहे किसानों द्वारा पहले से ही दिए गए यातायात मार्ग के अलावा, पुलिस बैरिकेड हटाने के बाद, दोपहिया और ऐम्बुलेंस की आवाजाही के लिए एक मार्ग बनाया गया है। एसकेएम पहले ही कह चुका है कि दिल्ली पुलिस के कदम उच्चतम न्यायालय की सुनवाई के दबाव में आए हैं और एसकेएम एक सामूहिक निर्णय लेने से पहले सभी घटनाक्रमों पर नजर रख रहा है।

एसकेएम की ताजा विज्ञप्ति के मुताबिक लखीमपुर खीरी किसान हत्याकांड से संबंधित जांच में, एसआईटी रिपोर्ट कर रही है कि अब तक 75 बयान दर्ज किये गये हैं और अब तक 60 चश्मदीद गवाहों को सुरक्षा प्रदान की गयी है तथा 16 और गवाहों के मिलने की संभावना है। एसकेएम ने स्थानीय किसानों को कानूनी सहायता के लिए तैयार की गई 7 सदस्यीय अधिवक्ताओं की टीम की मदद लेने के लिए आमंत्रित किया है, ताकि न्याय सुनिश्चित किया जा सके। एसकेएम ने अजय मिश्रा टेनी, जो गृह राज्यमंत्री के रूप में कार्यरत हैं, की गिरफ्तारी और बर्खास्तगी की मांग दोहरायी है। रविवार को ओड़िशा में अजय मिश्रा टेनी के काफिले को स्थानीय विरोध का सामना करना पड़ा।

जींद में महापंचायत

हरियाणा के जींद के खटकर टोल प्लाजा पर रविवार को युवा, छात्र, किसान और मजदूर संयुक्त महापंचायत में भारी भीड़ इकट्ठा हुई। इस महापंचायत में कई एसकेएम नेता मुख्य वक्ता थे।

शहीद अस्थि कलश यात्रा

शहीद किसान अस्थि कलश यात्रा पहले की योजना के अनुसार विभिन्न स्थानों पर जारी है – ऐसी ही एक यात्रा यूपी के इटावा से होकर जा रही है, जबकि तीन अन्य यात्राएं केरल, कर्नाटक, और महारष्ट्र से होकर जा रही हैं।

सरदार पटेल और आचार्य नरेन्द्रदेव को याद किया

सरदार वल्लभ भाई पटेल, जिन्होंने 1918 में खेड़ा किसान संघर्ष, जो किसानों की एकता और अहिंसा का उदाहरण है, के साथ-साथ बारदोली किसान सत्याग्रह में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई थी, उनकी जयंती पर संयुक्त किसान मोर्चा उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। संयुक्त किसान मोर्चा स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, समाजवादी चिंतक आचार्य नरेंद्रदेव, जिन्होंने आजादी के आंदोलन के दौरान किसानों के मुद्दों को लेकर सतत संघर्ष किया था, उनको उनकी जयंती पर श्रद्धापूर्वक नमन किया।

एसकेएम ने दिल्ली के आसपास के सभी राज्यों के किसानों से सभी मोर्चों को मजबूत करने के लिए बड़ी संख्या में आने का आह्वान किया है,यह कहते हुए कि मौजूदा हालात में यह महत्त्वपूर्ण है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here