Home Tags Divik Ramesh

Tag: Divik Ramesh

दिविक रमेश की चार कविताएं

टूटता है एकांत   कई दिनों से महज टहनियाँ बनी जी रही थी गिलोय की बेल। फूटीं पत्तियाँ ताजगी भरी तो लगा कि नहीं जगती उम्मीद भर, जगती है द्वंदों में जकड़ी...

चर्चित पोस्ट

लोकप्रिय पोस्ट