Home Tags Gagan Gil

Tag: Gagan Gil

गगन गिल की पाँच कविताएं

तुम्हें भी तो पता होगा मैं क्यों दिखाऊँगी तुम्हें निकाल कर अपना दिल   तुम्हें भी तो पता होगा   कहाँ लगा होगा पत्थर कहाँ हथौड़ी   कैसे ठुकी होगी कुंद एक कील किसी ढँकी हुई जगह...

रहस्य और विस्मय का आलोक

— शर्मिला जालान — कविता हो या लेख या कोई संस्मरण, गगन गिल उसमें संदर्भ, परिवेश और पड़ोस सामने रखती हैं और उसी में बुनती जाती...

चर्चित पोस्ट

लोकप्रिय पोस्ट