खाद्य तेलों पर सीमाशुल्क में कटौती किसान-विरोधी कदम- किसान मोर्चा

0

14 अक्टूबर। संयुक्त किसान मोर्चा ने खाद्य तेलों पर सीमा शुल्क कटौती की निन्दा की है। केंद्र ने कल खाद्य तेल की कीमतों को नियंत्रित करने के नाम पर खाद्य तेलों पर मूल सीमा शुल्क को न्यूनतम स्तर पर ला दिया है। मार्च 2022 तक उन पर लगाए गए कृषि उपकर (जो 20% पर था) को कम करने के अलावा पाम, सोयाबीन और सूरजमुखी के तेल की कच्ची किस्मों पर मूल सीमा शुल्क को बहुत कम स्तर पर लाया गया था। भारत सरकार ने तिलहन और खाद्य तेलों पर स्टॉक सीमा लगाने के बाद ऐसा किया। इसका उन किसानों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा, जिनकी ताजा फसल 2021 के खरीफ सीजन के अंत में बाजारों में आ रही है।

ये शुल्क कटौती 31 मार्च 2022 तक लागू रहेगी, जिससे किसानों की घरेलू कीमतों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। एसकेएम ने केंद्र सरकार के इस किसान विरोधी कदम की निन्दा करते हुए एक बार फिर यह मांग दोहराई है कि किसानों के हितों की रक्षा के लिए सभी कृषि उत्पादों पर लाभकारी एमएसपी को कानूनी रूप से गारंटीकृत बनाया जाना चाहिए।

टेनी को मोदी कब हटाएंगे!

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी द्वारा खुली धमकी देने, घृणा और द्वेष को बढ़ावा देने और यहां तक ​​कि अपने आपराधिक इतिहास का उल्लेख करने के लगभग 3 सप्ताह बाद भी वह भारत सरकार की मंत्रिपरिषद में मंत्री बने हुए हैं और आजाद घूम रहे हैं। एसकेएम ने एक बार फिर अपनी मांग दोहराई कि उन्हें बर्खास्त कर सरकार तत्काल गिरफ्तार करे, अन्यथा यह स्पष्ट है कि लखीमपुर खीरी किसान हत्याकांड मामले में न्याय से निश्चित रूप से समझौता किया जाता रहेगा। संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा कि उसके रेल रोको आह्वान को 18 अक्टूबर को पूरे भारत में लागू किया जाएगा, ताकि मोदी सरकार पर अजय मिश्रा टेनी और उनके बेटे का बचाव करने के बजाय उनके खिलाफ कार्रवाई करने का दबाव बनाया जा सके।

शहीद कलश यात्रा शुरू

तिकुनिया में 12 अक्टूबर को हुई अंतिम अरदास के बाद, उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी से शहीद कलश यात्रा शुरू हो गयी है। इस बीच, 3 अक्टूबर 2021 को क्रूरतापूर्वक कुचले जाने से घायल हुए लोगों को अभी तक मुआवजा नहीं दिया गया है, जो निंदनीय है।

भाजपा नेताओं का विरोध जारी

बुधवार को हरियाणा के सोनीपत जिले के गोहाना में, किसानों की एक बड़ी और शांतिपूर्ण सभा ने राज्य के मनोहर लाल खट्टर के एक कार्यक्रम में भाग लेने के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। जिस स्टेडियम में सीएम के लिए हेलीपैड बनाया गया था, उसके ठीक बाहर किसान जमा हो गए और शाम होते ही उनकी संख्या बढ़ने लगी। भारी विरोध के चलते सीएम ने अपना कार्यक्रम रद्द कर दिया। प्रदर्शनकारी किसानों ने कार्यक्रम में भाग लेने के खिलाफ सीएम को एक प्रारंभिक चेतावनी भी जारी की थी, और घोषणा की थी कि वे इसके खिलाफ शांतिपूर्ण काले झंडे के विरोध का आयोजन करेंगे। मुख्यमंत्री के कार्यक्रम रद्द करने की घोषणा के बाद भी किसान अपने विरोध से नहीं हटे और महर्षि वाल्मीकि जयंती से संबंधित पूरा कार्यक्रम मुख्यमंत्री की भागीदारी के बिना समाप्त होने के बाद ही वापस गए। एक सप्ताह में कैथल के बाद यह दूसरा मौका था जब किसानों के विरोध के कारण खट्टर को अपना कार्यक्रम रद्द करना पड़ा।

उत्तराखंड में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को अपने पैतृक जिले उधम सिंह नगर में स्थानीय किसानों के बड़े विरोध का सामना करना पड़ा।धामी भाजपा विधायक राजेश शुक्ला के जन्मदिन समारोह में भाग लेने और कई विकास योजनाओं का उदघाटन करने के लिए उधम सिंह नगर के किच्छा पहुंचे थे। विरोध करनेवाले किसान शुरू में मंडी में जमा हुए लेकिन बाद में सीएम द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे हेलीपैड पर पहुंच गए। यहां के किसान नेताओं ने घोषणा की कि वे यहां और अन्य जगहों पर भाजपा नेताओं के खिलाफ काले झंडे से अपना विरोध और प्रतिरोध दिखाएंगे और आनेवाले दिनों में इस तरह के विरोध को तेज करेंगे।

राजस्थान के हनुमानगढ़ में भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष कैलाश मेघवाल व अन्य के बारे में सूचना मिलने पर किसानों ने सर्किट हाउस पर विरोध प्रदर्शन किया। 4 अक्टूबर को कलेक्ट्रेट गेट से 15 फीट दूर एक वृद्ध किसान पर बेरहमी से लाठी बरसानेवाले पुलिस अधिकारी नरेश गेहरा को निलंबित करने की मांग को लेकर भी किसान कलेक्ट्रेट के बाहर अनिश्चितकालीन धरना दे रहे हैं। वे बार-बार आश्वासन और विरोधाभासी बयानों के बाद भी खरीद शुरू न होने के बाद सरकारी एजेंसियों द्वारा धान खरीद शुरू करने की मांग कर रहे हैं।

गुरुवार को हिसार में एक कार्यक्रम के लिए हरियाणा भाजपा अध्यक्ष ओम प्रकाश धनखड़ की यात्रा के विरोध में किसान जीजे विश्वविद्यालय के बाहर काले झंडे के साथ एकत्र हुए।

शुक्रवार को पंजाब के फिरोजपुर जिले के जीरा में एक बड़ी किसान महापंचायत का आयोजन किया जा रहा है। इस सभा में कई एसकेएम नेताओं के भाग लेने की उम्मीद है।

हसदेव बचाओ यात्रा

छत्तीसगढ़ में ‘हसदेव बचाओ यात्रा’ में पिछले 10 दिनों में 300 किलोमीटर से अधिक पैदल चलकर सैकड़ों आदिवासी किसान, पुरुष और महिलाएं, राज्य की राजधानी रायपुर पहुंचे हैं। हसदेव बचाओ यात्रा वन, जो आदिवासियों के लोकाचार और आजीविका का एक अभिन्न अंग हैं, को बड़े खनन निगमों से रक्षा के लिए निकाली गयी। आदिवासी किसानों के लिए कृषि, जंगलों और खेती के बीच एक निरंतरता है, और हसदेव के समृद्ध जंगलों को बचाना हजारों आदिवासी किसानों की आजीविका को बचाना है। प्रदर्शनकारी किसान पेसा और वनाधिकार कानून को पूरी तरह लागू करने की मांग कर रहे हैं। किसान राज्य के मुख्यमंत्री के साथ मुलाकात और आश्वासन की मांग कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here