बड़े गुनहगार तो कंगना के दावे पर तालियाँ बजानेवाले लोग हैं

0
कार्टून : मंजुल। साभार।

— श्रवण गर्ग —

किसी भी दल या धर्म विशेष के प्रति प्रतिबद्ध किंतु परम्परागत रूप से सहिष्णु नागरिकों को अगर सुनियोजित तरीके से समझा दिया जाए कि राष्ट्र की एकता और अखंडता की रक्षा के लिए धार्मिक ‘असहिष्णुता’ का ‘औचित्यपूर्ण’ इस्तेमाल आवश्यक है तो बिना किसी सैन्य हस्तक्षेप अथवा हिंसा की जरूरत के नितांत अहिंसक जरिए से ही एक जागृत प्रजातंत्र को संवेदनशून्य अधिनायकवादी व्यवस्था में बदला जा सकता है।

अन्यान्य कारणों से लगातार विवादों/सुर्खियों में बनी रहनेवाली सिने तारिका कंगना रनौत जब बिना किसी तर्क के यह कहती हैं कि देश को असली आजादी 1947 में (गांधी के नेतृत्व में) नहीं बल्कि 2014 में (नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में) मिली है और जब जाने-माने विधिवेत्ता और वरिष्ठ कांग्रेस नेता सलमान ख़ुर्शीद तार्किक आधार पर चिंता जताते हैं कि ‘राजनीतिक’ हिंदुत्व हमारे संतों और ऋषि-मुनियों द्वारा प्रतिपादित हिंदुत्व से भिन्न है तो हम वर्तमान में अपने आसपास घट रहे घटनाक्रम को आसानी से समझ सकते हैं।

हमें कंगना के कहे के पीछे छिपे मजबूत राजनीतिक-धार्मिक समर्थन को इस तरीके से समझना चाहिए कि एक सफल सिने तारिका के तौर पर वे केवल एक लिखी और समझायी गयी स्क्रिप्ट को ही व्यावसायिक अथवा क्रूर तरीके से पेश कर सकती हैं। आजादी की लड़ाई को लेकर कंगना जो कुछ भी कह रही हैं उसमें और संघ तथा भाजपा के अनुभवी वक्ता अपनी सधी हुई जुबान और विनम्र अन्दाज में जो व्यक्त करते हैं उसमें ज्यादा फर्क नहीं है। कंगना को अपने मन की बात कहने का हुनर जब पूरी तरह से हासिल हो जाएगा तब उनके किसी भी कहे पर इतनी उग्र प्रतिक्रिया नहीं होगी जैसी कि अभी हो रही है।

राजनीति में फर्क इस बात से भी पड़ता है कि कौन सी बात कौन कह रहा है ! मसलन हिंदुत्व को लेकर सलमान ख़ुर्शीद द्वारा अपनी नयी किताब ‘सनराइज ओवर अयोध्या’ में लिखी बात अगर शंकराचार्यों की श्रेणी का कोई प्रतिष्ठित हिंदू विद्वान कह देता तो इतना बवाल नहीं मचता। सलमान के लिखे के प्रति हो रहे विरोध में यह समाहित है कि एक मुस्लिम को हिंदुत्व की व्याख्या करने का अधिकार किसने दे दिया? यही कारण है कि जब राहुल गांधी ‘हिंदुत्व’ और ‘हिन्दूवाद’ के बीच का फर्क समझाते हैं तो कोई हल्ला नहीं मचता। ऐसा इसलिए कि कांग्रेस के नायक ने खुद को बतौर एक जनेऊधारी हिंदू के भी सार्वजनिक जीवन में स्थापित करवा लिया है। कोई मुस्लिम तो कंगना की जुबान में यकीनन कह ही नहीं सकता कि देश को आजादी 1947 में नहीं बल्कि 2014 में प्राप्त हुई है। वह हकीकत में क्या कहना चाहेगा उसका भी केवल अनुमान ही लगाया जा सकता है।

कंगना ने जो कुछ भी कहा उसके प्रति शोक व्यक्त करने के बजाय ज्यादा खौफ इस बात का होना चाहिए कि सम्भ्रांत नागरिकों की जो जमात ‘टाइम्स नाउ’ के शिखर सम्मेलन के दौरान एंकर के साथ उनकी बातचीत को सुनने के लिए हॉल में उपस्थित थी वह क्या प्रतिक्रिया व्यक्त कर रही थी! यह जानना इसलिए जरूरी है कि ‘अकेली’ कंगना नहीं हैं बल्कि ‘अकेले’ वे तमाम लोग हैं जो इस समय सोशल मीडिया पर सिने तारिका का विरोध करने में जुटे हुए हैं।

चैनल की एंकर नाविका कुमार ने जब सावरकर को लेकर सवाल किया तो कंगना ने उलट कर पूछ लिया : “सेक्युलर क्या होता है? सेक्युलर का मतलब यही होता है कि यह जमीन (देश) किसी की नहीं है। न आपकी, न मेरी, हरेक आदमी की! यह जमीन किसी की भी नहीं है। ठीक? कांग्रेस के नाम पर अंग्रेज जो छोड़ गये हैं, ये वह है। ये (कांग्रेस) अंग्रेजों के ही पुछल्ले (एक्सटेंशन) हैं।” कंगना ने जैसे ही यह कहा, हॉल में पीछे की तरफ बैठा नागरिक समाज तालियाँ बजाने लगा। अंग्रेजी अखबार ‘द टेलिग्राफ’ के मुताबिक, कंगना ने आगे जब यह कहा कि 1947 में जो मिला वो आजादी नहीं थी भीख थी और जो आजादी प्राप्त हुई है वह 2014 में मिली है तो हॉल में तालियाँ और भी जोरों से गूंज उठीं। अग्रिम पंक्तियों में बैठे लोग भी तालियाँ बजानेवालों में शामिल हो गये। पूरे हॉल में एक भी व्यक्ति ऐसा नहीं था जो खड़ा होकर विरोध करने की हिम्मत दिखा सके।

कंगना के कहे को ‘राजनीतिक’ हिंदुत्व के इस आशय की तरह स्वीकार किया जा सकता है कि जो ‘आजादी’ 2014 में प्राप्त हुई है उसकी हिफाजत उस तरह से नहीं की जा सकती जिस तरह से 1947 में आजादी (‘भीख’ में) प्राप्त हुई थी। कंगना वही कह रही हैं जो कि कट्टर राष्ट्रवाद और हिंदुत्व के समर्थक गांधी की अहिंसा के औचित्य को खारिज करते हुए सावरकर के अनन्य भक्त गोडसे के कृत्य का विरोध नहीं करते। सवाल यह है कि ‘हिंदुत्व’ के इस नये ‘राजनीतिक’ अवतार के बारे में क्या कभी संघ या भाजपा का कोई नेता सलमान ख़ुर्शीद की तरह से किताब लिखना चाहेगा? शायद नहीं। ऐसा इसलिए कि सलमान ख़ुर्शीद ने स्वयं के इस्लाम धर्म के संदर्भ में आयसिस और बोको हरम के इस्लाम को जिहादी इस्लाम बताने का साहस दिखाया है। सलमान उसी ओर इशारा कर रहे हैं जिस ओर कंगना संघ और भाजपा के हिंदुत्व के नेतृत्व में देश को 2014 में मिली आजादी की ओर इशारा कर रही हैं।

भारतीय राजनीति में यह एक सर्वथा अभिनव प्रयोग है कि आजादी प्राप्ति की नयी अवधारणा की स्थापना में किसी परिपक्व महिला नेत्री अथवा साधु-साध्वियों के स्थान पर एक फैशनेबल सिने तारिका कहीं ज्यादा प्रभावशाली साबित होती दिख रही है। कंगना ने अपने बड़बोलेपन से न सिर्फ अपनी ही उस आजादी का अपमान किया है जिसका कि अमृत महोत्सव उनके ही नायक नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में मनाया जा रहा है बल्कि दक्षिण अफ्रीका सहित दुनिया के उन तमाम राष्ट्रों का भी अपमान किया है जिन्होंने गांधी की बताई अहिंसा के जरिए अपने नागरिकों के लिए स्वतंत्रता प्राप्त की है।

जनता की नजरों में कंगना से बड़े ‘अपराधी’ तो वे हैं जो पीछे बैठकर तालियाँ बजा रहे थे। कंगना अब एक व्यक्ति से ऊपर उठाकर एक ‘प्रयोग’ बन गयी हैं। वे चाहें तो ‘मेरे असत्य के प्रयोग’ शीर्षक से अपनी आत्मकथा भी लिख सकती हैं। कोई शक नहीं कि ऐसे प्रयोगों में महारत हासिल कर चुका संघ परिवार कंगना की आत्मकथा का बेसब्री से इंतजार करेगा और भरपूर स्वागत भी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here