क्या विपक्षी दल भी अपने वजूद के लिए बहुसंख्यकवाद की राजनीति को बढ़ावा दे रहे हैं?

0


— श्रवण गर्ग —

बादी के कोई सोलह प्रतिशत (या लगभग बाईस करोड़) मुसलमानों को इस सचाई का पता चलने में पचहत्तर साल लग गए कि भाजपा ही नहीं किसी भी प्रमुख राजनीतिक दल को अब राष्ट्रीय स्तर पर उनकी जरूरत नहीं बची है। मुसलमानों का यह भ्रम ध्वस्त कर दिया गया है कि कोई भी दल उनके वोटों के बिना सरकार नहीं बना सकता। सर्वोच्च संवैधानिक पदों- राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति- के लिए उम्मीदवारों की घोषणा होने तक मीडिया द्वारा प्रचार किया जा रहा था कि दो में से किसी एक पद के लिए भाजपा किसी मुसलिम नेता को एनडीए का उम्मीदवार बना सकती है।

द्रौपदी मुर्मू के नाम की घोषणा के बाद ऐसी अटकलें तेज हो गयी थीं कि केरल के राज्यपाल आरिफ़ मोहम्मद ख़ान या पूर्व केंद्रीय मंत्री मुख़्तार अब्बास नक़वी को एनडीए की ओर से उपराष्ट्रपति पद का प्रत्याशी बनाया जा सकता है। ऐसा करके भाजपा करोड़ों मुसलमानों को खुश करने का काम कर सकती है। ये अटकलें इस हकीकत के बीच भी जारी रहीं कि भाजपा के पास संसद के दोनों सदनों में अब नाम के लिए भी कोई मुसलिम सांसद नहीं बचा है। यूपी सहित अन्य भाजपा-शासित राज्यों में भी मुसलिम विधायकों को लेकर ऐसी ही स्थिति है।भाजपा ने जगदीप धनखड़ के नाम की घोषणा करके मुसलिम ‘तुष्टिकरण’ की सम्भावनाओं पर अंतिम रूप से विराम लगा दिया। यानी न वोट चाहिए, न उम्मीदवारी चाहिए !

किसी ने सवाल नहीं उठाया कि भाजपा द्वारा किसी मुसलिम को उम्मीदवार नहीं बनाया जाना तो समझ में आता है पर कांग्रेस, तृणमूल और समाजवादी पार्टी सहित बाकी विपक्षी दलों ने भी ऐसा ही क्यों किया? उन्होंने मार्गरेट अल्वा की जगह किसी मुसलिम उम्मीदवार की तलाश क्यों नहीं की?

क्या विपक्षी दलों को भी भाजपा की तरह मुसलमानों की जरूरत नहीं बची है? उन्हें भी क्या सिर्फ हिंदू वोट चाहिए? इन्हीं विपक्षी दलों ने अगस्त 2007 से 2017 तक दो कार्यकाल के लिए मोहम्मद हामिद अंसारी को उपराष्ट्रपति बनवाया था। उनके पहले 2002 से 2007 तक एपीजे अब्दुल कलाम राष्ट्रपति चुने गए थे। तब प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी थे।

पिछले साल हुए विधानसभा चुनावों तक ममता बनर्जी को पश्चिम बंगाल के सत्ताईस प्रतिशत मुसलिमों की सबसे ज्यादा जरूरत थी। भाजपा ने ममता को हराने के लिए राज्य के मतदाताओं को सत्तर-सत्ताईस में विभाजित कर दिया था।मुसलिम मतदाताओं ने तब भाजपा को हराने के लिए कांग्रेस-माकपा-(मुसलिम संगठन)इंडियन सेकुलर फ्रंट के गठबंधन को नकार ममता को बिना शर्त समर्थन दिया था। अब मुसलिम मतदाताओं की नाराजगी की परवाह न करते हुए हुए ममता की पार्टी ने घोषणा कर दी है कि उसके सांसद और विधायक उपराष्ट्रपति चुनाव में मतदान से अनुपस्थित रहेंगे। यानी तृणमूल कांग्रेस विपक्ष के बजाय भाजपा के उम्मीदवार की जीत सुनिश्चित करेगी (मार्गरेट अल्वा ने ममता के निर्णय की आलोचना करते हुए उनसे पुनर्विचार की अपील की है)।

देश को जानकारी है कि प.बंगाल में राज्यपाल-पद पर कार्यकाल के दौरान धनखड़ और ममता के बीच संबंध कितने तनावपूर्ण हो गए थे। संवैधानिक अधिकारों को लेकर दोनों में तनाव इतना बढ़ गया था कि ममता ने राज्यपाल के स्थान पर स्वयं को समस्त विश्वविद्यालयों का कुलाधिपति नियुक्त कर लिया था। आश्चर्यजनक रूप से पिछले दिनों दार्जीलिंग में धनखड़ और असम के भाजपा मुख्यमंत्री हेमंत बिस्वास सरमा के साथ हुई बैठक के बाद ममता का एकाएक हृदय परिवर्तन हो गया और फिर पूरे विपक्ष को चौंकाते हुए उन्होंने उपराष्ट्रपति चुनाव में मतदान से अनुपस्थित रहने का फैसला सुना दिया। दार्जीलिंग बैठक क्यों हुई और उसमें क्या हुआ उसके बारे में ममता ने देश को कोई जानकारी नहीं दी।

महाराष्ट्र में एकनाथ शिंदे के विद्रोही गुट ने जब यह आरोप लगाया कि शिव सेना ने बाला साहब के हिंदुत्व को छोड़ दिया है तो असंतुष्टों को मनाने के लिए उद्धव ने यह तर्क नहीं दिया कि उनकी पार्टी अब धर्मनिरपेक्ष हो गयी है। उद्धव ने बहुसंख्यकवाद का कार्ड ही खेला कि शिव सेना ने अपनी कट्टर हिंदुत्व की विचारधारा को न तो छोड़ा है और न छोड़ेगी। शिव सेना के विद्रोही सांसदों के दबाव में उद्धव विपक्षी दलों के संयुक्त उम्मीदवार यशवंत सिन्हा के खिलाफ भाजपा का साथ देने को भी तैयार हो गए। एमवीए गठबंधन में शामिल कांग्रेस और एनसीपी ने भी उद्धव के कदम का विरोध नहीं किया।

कांग्रेस सहित तमाम विपक्षी दल यही प्रचार करते रहे हैं कि अल्पसंख्यकों की विरोधी तो सिर्फ भाजपा है, बाकी पार्टियाँ तो धर्मनिरपेक्षता में यकीन करती हैं। नागरिकता संशोधन अधिनियम के खिलाफ शाहीनबाग में चले लम्बे महिला आंदोलन तथा दिल्ली दंगों के दौरान कांग्रेस और आम आदमी पार्टी की भूमिका में उनकी धर्मनिरपेक्षता की पोल भी खुल गयी।

सर्वोच्च संवैधानिक पदों पर चुनावों को लेकर चला हाल का घटनाक्रम अगर कोई संकेत है तो अल्पसंख्यकों के लिए ज्यादा बड़ा खतरा भाजपा की साम्प्रदायिकता के बजाय विपक्षी दलों की नकली धर्मनिरपेक्षता बन गयी है। विपक्षी दल भी अपने अस्तित्व के लिए अब भाजपा की तरह ही बहुसंख्यकवाद की राजनीति को बढ़ावा दे रहे हैं।

सवाल यह है कि 2024 के लोकसभा चुनावों में प.बंगाल के तीन-साढ़े तीन करोड़ मुसलमान भी अगर यह तय कर लेते हैं कि वे मतदान से अनुपस्थित रहेंगे तो फिर ममता और उनके उत्तराधिकारी भतीजे अभिषेक की राजनीति का क्या भविष्य बनेगा? सोचने के लिए सवाल यह भी है कि भाजपा अगर धनखड़ की जगह आरिफ़ मोहम्मद ख़ान या नकवी को उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बना देती तो उस स्थिति में विपक्ष क्या करता? दूसरी ओर, विपक्षी दल अगर अल्वा के स्थान पर किसी मुसलिम को खड़ा कर देते तब भी क्या ममता एनडीए की मदद के लिए मतदान से अनुपस्थित रहने का फैसला करतीं?

राष्ट्रपति-उपराष्ट्रपति पद के चुनावों ने मुसलिमों को लेकर भाजपा और विपक्ष दोनों की हकीकत उजागर कर दी है। गेंद अब मुसलिमों के पाले में है। तय उन्हें करना है कि वे अब अपना संरक्षण किस दल में तलाश करेंगे। इस सवाल के जवाब में कि क्या भाजपा को अल्पसंख्यकों की जरूरत नहीं है, नीतीश सरकार में भाजपा के (देश भर में) इकलौते मुसलिम कैबिनेट मंत्री शाहनवाज़ हुसैन का एक अखबार को कहना था कि : “हम कभी धर्म-जमात नहीं देखते। हमारे नेता नरेंद्र मोदी की नजर 130 करोड़ हिंदुस्तानी देखती है। एक मुल्क, एक नजर।’’ क्या सारे मुसलमान ऐसी ही सोच रखते हैं?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here