इंदौर फूल मंडी में किसानों की उपज पर 10 फीसद कमीशन काटे जाने का विरोध

0

22 नवंबर। इंदौर की फूल मंडी में किसानों की उपज पर 10 फीसद कमीशन काटे जाने के विवाद को लेकर मंगलवार को मंडी सचिव द्वारा किसानों, व्यापारियों और किसान संगठनों के प्रतिनिधियों की बुलाई गई बैठक में कोई हल नहीं निकल पाया। फिर बैठक बुलाई जाएगी।

किसान संगठनों की ओर से रामस्वरूप मंत्री, बबलू यादव, शैलेंद्र पटेल, लाखन पटेल, सोहर यादव आदि ने कहा कि किसानों से एक तरफ 10 फीसद कमीशन काटा जा रहा है, दूसरी ओर उन्हें अपने आधे से ज्यादा फूल फेंकने पड़ रहे हैं। 10 फीसद कमीशन काटे जाने का सिलसिला बंद करना चाहिए। मंडी अधिनियम का पालन कराए जाने की मांग करते हुए किसान संगठनों ने कहा है कि 10 फीसद कमीशन काटना किसानों के साथ अन्याय है। व्यापारी संगठनों के प्रतिनिधियों ने कहा कि इंदौर मंडी में किसानों का सबसे ज्यादा फायदा होता है। लेकिन वे इस बात की जिम्मेदारी लेने से मुकर गए किसानों का जो माल फेंका जाता है उसका पैसा कौन देगा। किसान संगठनों की मांग है कि या तो व्यापारी पूरा माल खरीदें और फिर से अपने हिसाब से बेचें, या फिर किसानों के माल के नुकसान में भी साझेदार बनें।

– रामस्वरूप मंत्री
बबलू जाधव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here