Home Tags Poem of Harishankar Parsai

Tag: Poem of Harishankar Parsai

हरिशंकर परसाई की कविता

जगत के कुचले हुए पथ पर भला कैसे चलूँ मैं   किसी के निर्देश पर चलना नहीं स्वीकार मुझको नहीं है पद चिह्न का आधार भी दरकार...

चर्चित पोस्ट

लोकप्रिय पोस्ट