किसानों की मांगें पूरी करने का भी रास्ता खोले सरकार – किसान मोर्चा

0

30 अक्टूबर। शुक्रवार रात दिल्ली पुलिस ने टिकरी बार्डर पर यातायात के लिए 40 फुट के रास्ते को खोलने की कोशिश की, हालांकि इस पर प्रशासन और किसान नेताओं के बीच बातचीत बेनतीजा रही। दिल्ली पुलिस आयुक्त ने एक मीडिया साक्षात्कार में कहा कि वे यात्रियों के लिए सामान्य स्थिति बहाल करना चाहेंगे। कुछ समय के लिए इलाके में तनाव बढ़ गया था, और किसानों ने मोर्चा स्थल की सुरक्षा बढ़ा दी थी। किसान इस ओर इशारा कर रहे हैं कि अब दुर्घटनाओं में प्रदर्शनकारियों के घायल होने और मारे जाने की आशंका बढ़ जाएगी।

यह स्पष्ट है कि भाजपा सरकारों की पुलिस अचानक सड़कों को अवरुद्ध करने में अपनी प्राथमिक भूमिका से दूर हटने की कोशिश कर रही है, जब उच्चतम न्यायालय ने इस साल दायर एक मामले में जांच शुरू कर दी है (यह ध्यान देने योग्य है कि न्यायालय द्वारा दिसंबर 2020 और जनवरी 2021 में अन्य संबंधित मामले पर अभी कोई सुनवाई नहीं हुई है)। एसकेएम ने हमेशा कहा है कि पुलिस ने ही सड़कों को अवरुद्ध किया था।

एसकेएम ने पहले ही स्पष्ट कर दिया है कि उसने पहले भी दोतरफा यातायात की जगह दी है और भविष्य में भी मोर्चा स्थलों पर ऐसा ही करेगा। एसकेएम ने कहा कि अगर सरकार पूरी तरह से मार्ग खोलना चाहती है, तो उसे किसानों की मांगों को पूरा करने के लिए भी रास्ता खोलना होगा। किसान आंदोलन उसी स्थान पर जारी रहेगा या दिल्ली में कहां चलेगा? यह एक सामूहिक निर्णय है जो उचित समय पर लिया जाएगा। अभी के लिए, जैसा कि पहले की एक प्रेस विज्ञप्ति में साझा किया गया था, एसकेएम ने कहा है कि वह सभी घटनाक्रमों को देख रहा है और आंदोलन का हिस्सा रहे सभी नागरिकों से अपील करता है कि वे शांति बनाए रखें, और किसी भी उकसावे की कार्रवाई से उत्तेजित न हों।

अधिवक्ता पैनल

संयुक्त किसान मोर्चा ने लखीमपुर खीरी किसान हत्याकांड मामले में किसानों को कानूनी सहायता प्रदान करने के लिए 7 सदस्यीय अधिवक्ता पैनल का गठन किया गया। यह टीम मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा समेत आरोपियों के खिलाफ कानूनी लड़ाई को आगे बढ़ाएगी। कानूनी कार्यवाही में सहायता के लिए आवश्यकतानुसार वकीलों की टीम के साथ समन्वय करने के लिए किसान संगठनों के वालंटियर की एक टीम भी बनायी गयी है। एसकेएम की कानूनी टीम के सदस्यों ने यूपी सरकार की एसआईटी के अधिकारियों से भी मुलाकात की और एक काउंटर एफआईआर (अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ दर्ज संख्या 220) में गिरफ्तार किये गये दो किसानों को तत्काल रिहा करने की मांग की; उन्होंने इस प्राथमिकी में किसानों को भेजे जा रहे पुलिस नोटिसों को भी तत्काल रोकने की मांग की।

शुक्रवार को मानसा जिले के खिवा दयालपुरा में 28 अक्टूबर की सुबह बहादुरगढ़ में एक टिपर ट्रक द्वारा कुचले जाने से जान गंवाने वाली तीन महिलाओं का अंतिम संस्कार किया गया। कल जब तीनों महिला किसानों का एकसाथ अंतिम संस्कार किया गया तो हर तरफ मातम छा गया। दाह संस्कार के दौरान हजारों लोगों ने इन साहसी महिलाओं को अंतिम विदाई दी। एसकेएम ने उन तीनों महिलाओं के जीवन की गहरी कठिनाइयों को संज्ञान में लिया है। उनमें से दो अविवाहित महिलाएं हैं और उन सभी पर भारी कर्ज है, और ये सभी छोटी काश्त की किसान हैं। इन महिला किसानों ने आंदोलन में बड़ा योगदान दिया है और एसकेएम शहीद अमरजीत कौर, शहीद सुखविंदर कौर और शहीद गुरमेल कौर को भावभीनी श्रद्धांजलि देता है। एसकेएम ने एक बार फिर कहा कि इस घटना में किसी भी तरह की गड़बड़ी को खारिज करने के लिए जांच की जानी चाहिए।

ग्लासगो में मोदी का विरोध

जहां जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र के COP26 में भाग लेने के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ग्लासगो पहुंचे, वहीं यूके में किसान आंदोलन के समर्थक विरोध करने के लिए तैयार हो गए हैं। ग्लासगो में विरोध किसान आंदोलन के समर्थक प्रवासी भारतीयों की ओर से मोदी सरकार को यह बताने के लिए किया जा रहा है कि भारत सरकार के अलोकतांत्रिक, अनुत्तरदायी और अड़ियल व्यवहार की हर जगह निंदा की जा रही है।

अमरोहा में किसान महापंचायत

उत्तर प्रदेश के अमरोहा में शनिवार को हुई किसान महापंचायत में हजारों किसानों की भागीदारी देखी गयी। पूरे मैदान में भारी बारिश के कारण 17 अक्टूबर को आयोजित पंचायत आयोजित नहीं की जा सकी और उसे स्थगित करना पड़ा था। कई एसकेएम नेताओं ने महापंचायत में भाग लिया, और किसानों को दिल्ली मोर्चा में आने का आह्वान किया।

यह पता चला है कि संयुक्त राज्य अमेरिका से किसान आंदोलन के समर्थक दर्शन सिंह धालीवाल को कथित तौर पर भारत में प्रवेश की अनुमति के लिए मोर्चा स्थल पर लंगर सहायता नहीं करने के लिए कहा गया था, और यही कारण था कि उन्हें भारतीय अधिकारियों द्वारा प्रवेश की अनुमति के बिना भारत से निर्वासित कर दिया गया। एसकेएम ने मोदी सरकार के इस शर्मनाक व्यवहार की निंदा करते हुए उसे किसान आंदोलन के समर्थकों को परेशान करने से बाज आने की चेतावनी दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here