लखीमपुर में 4 किसान शहीद, केंद्रीय गृह राज्यमंत्री के बेटे पर हमले का आरोप

0

3 अक्टूबर। उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे किसानों पर एक बेहद क्रूर हमले में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी, उनके बेटे, उनके चाचा और अन्य गुंडों से जुड़े वाहनों का काफिला कई प्रदर्शनकारियों को कुचल गया। बताया जा रहा है कि केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष (मोनू) मिश्रा ने एक किसान की गोली मार कर हत्या कर दी। इस घटना में कम से कम दो अन्य किसानों की भी मौत हो गई (एक मौके पर और दूसरा अस्पताल में) और करीब दस अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए। खबर है कि तराई किसान संगठन के नेता और एसकेएम नेता तजिंदर सिंह विर्क भी घायल हुए हैं। मृतकों और घायलों के बारे में अधिक जानकारी की प्रतीक्षा है। संयुक्त किसान मोर्चा के मुताबिक फिलहाल चार किसानों के शहीद होने की खबर है। इनके नाम इस प्रकार हैं-

1. लवप्रीत सिंह, 20 वर्ष
2. नछतर सिंह, 60 वर्ष
3. दलजीत सिंह, 35 वर्ष
4. गुरविंदर सिंह, 19 वर्ष

यह भी खबर है कि इस क्रूर हमले के बाद किसानों को जवाबी कार्रवाई के लिए उकसाया भी गया और भाजपा नेता के वाहनों को तोड़ दिया गया। संयुक्त किसान मोर्चा की मांग है कि उत्तर प्रदेश सरकार अजय मिश्र टेनी की तरफ से शामिल सभी लोगों के खिलाफ हत्या के आरोपों के साथ तुरंत मामला दर्ज करे। केंद्रीय गृह राज्यमंत्री को तुरंत बर्खास्त किया जाए। एसकेएम ने उत्तर प्रदेश के भाजपा नेताओं को राज्य के किसानों को ललकारने से रोकने की भी चेतावनी दी है। एक आपात बैठक के बाद, एसकेएम ने लखीमपुर खीरी में किसानों पर किये गये इस जानलेवा हमले के विरोध में सोमवार को सभी जिला मुख्यालयों पर 10 बजे से 1 बजे तक धरने और प्रदर्शन का आह्वान किया है।

संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं ने रविवार की‌‌ शाम सात बजे आयोजित एक ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन के जरिए तीन मांगें रखी हैं-

1. अजय मिश्र टेनी को मंत्रिपरिषद से बर्खास्त किया जाए।
2. अजय मिश्र टेनी के बेटे आशीष मिश्रा और उसके साथ आए गुंडों पर हत्या का केस दर्ज किया जाए।
3.  घटना की जांच सुप्रीम कोर्ट के किसी वर्तमान जज से करायी जाए।

जैसा कि पूर्व में घोषित किया गया था, उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले में प्रदेश के उपमुख्यमंत्री और केंद्रीय गृह राज्यमंत्री द्वारा जनसभा में किसान नेता के खिलाफ जारी खुली धमकी के विरोध में आज सुबह से ही बड़ी संख्या में किसान काला झंडा दिखाने के लिए जमा होने लगे। उपमुख्यमंत्री को वहां उतरने से रोकने के लिए हजारों की संख्या में किसान रविवार की‌‌ सुबह महाराजा अग्रसेन ग्राउंड स्थित हेलीपैड पर काले झंडों के साथ काबिज हो गए। जैसा कि पहले बताया गया था, केंद्रीय गृह राज्यमंत्री श्री अजय मिश्रा टेनी ने हाल ही में एक जनसभा में किसान नेताओं को खुली धमकी जारी की थी। बताया जाता है कि किसानों पर क्रूर हमला तब हुआ जब किसान तितर-बितर हो रहे थे और विरोध स्थल से निकल रहे थे। सूचना के अनुसार श्री टेनी के बेटे, चाचा और अन्य गुंडों ने तब प्रदर्शनकारियों, जो काले झंडे के साथ सड़कों पर खड़े थे, को कुचल दिया जिसमें दो किसानों की मौके पर ही मौत हो गयी। कई अन्य को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

खट्टर का हमले के लिए उकसाने का वीडियो

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को एक वीडियो क्लिप में (भाजपा-आरएसएस) कार्यकर्ताओं को लाठियां उठाने और किसानों पर हमला करने के लिए, भले ही कुछ महीनों के लिए जेल ही क्यों न जाना पड़े, प्रोत्साहित करते हुए सुना जा सकता है। यह स्पष्ट है कि आयुष सिन्हा जैसे अधिकारियों को सिर फोड़ने का आदेश देने की छूट कहां से मिलती है। जबकि किसान आंदोलन ने शांति और अहिंसा को अपना मूल बना लिया है, यह स्पष्ट है कि सरकार अपने ही नागरिकों पर जानलेवा मंशा से व्यवहार कर रही है। संयुक्त किसान मोर्चा ने भाजपा के मुख्यमंत्री के हिंसक इरादे की कड़ी निंदा करते हुए मांग की है कि वह तुरंत माफी मांगें, और अपने संवैधानिक पद से इस्तीफा दें।

धान खरीद पर किसानों की जीत

सरकारी एजेंसियों द्वारा धान खरीद में देरी के खिलाफ एकजुट, समन्वित संघर्ष के माध्यम से शनिवार को किसानों की बड़ी जीत हुई। यह एक सत्याग्रह था जिसके तुरंत परिणाम सामने आए। किसानों ने दिखाया कि कम अवधि की किस्मों के इस्तेमाल और चावल की सीधी बुवाई (डीएसआर) के कारण, फसल वास्तव में समय पर तैयार हो गयी है, और अब बारिश खेतों में तैयार फसलों को नष्ट कर देगी। उन्होंने बताया कि वे अनाज को अपने घरों और बाद में मंडी तक ले जाने का खर्च वहन नहीं कर सकते थे, और भंडारण के लिए जगह की भी भारी कमी थी। उन्होंने यह भी बताया कि धान की कटाई और बिक्री में देरी से पराली प्रबंधन के लिए उपलब्ध समय कम हो जाएगा और अधिक पराली जलाने का कारण बनेगा। उन्होंने अनाज के सबूत दिखाए जो मंडियों में पहुंच गए थे और भीग रहे थे। भारत सरकार ने त्वरित यू-टर्न लिया और शाम तक घोषणा की कि पहले की घोषणा के अनुसार 11 अक्टूबर की बजाय आज, रविवार से खरीद शुरू की जाएगी।

संयुक्त किसान मोर्चा के बयान के मुताबिक वह भाजपा सरकार से कहना चाहता है कि इस तरह का यू-टर्न लेना काफी आसान है, और इसे शालीनता से किया जा सकता है। इस बात के पुख्ता सबूतों के सामने कि किसानों की आजीविका पर इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा, सरकार को किसानों की मांग माननी पड़ी। वर्तमान ऐतिहासिक किसान आंदोलन की मुख्य मांगों के साथ भी ऐसा ही होना चाहिए। एसकेएम ने मोदी सरकार से किसान आंदोलन की जायज मांगों को तत्काल पूरा करने की मांग की।

घड़साना में घेराबंदी

राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले में सिंचाई के लिए नहरों के पानी की मांग को लेकर दस हजार से अधिक किसानों का एक बड़ी सभा के बाद शनिवार की शाम विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया। घड़साना में नहरी सिंचाई के पानी की आपूर्ति के अभाव में अपनी फसल बर्बाद होने से डरे किसान कई दिनों से इसकी मांग कर रहे हैं, लेकिन प्रशासन ने किसानों की जायज मांग को अनसुना कर दिया। किसानों का रोष एसडीएम कार्यालय के बाहर हजारों किसानों की एक विशाल सभा में बदल गया, जहां उन्होंने घेराबंदी कर ली है। यह खबर लिखे जाने के वक्त भी घेराबंदी जारी है।

इस बीच, कर्नाटक के गन्ना उत्पादकों ने 5 अक्टूबर को बैंगलोर में विधानसभा घेराव की घोषणा की है। वे राज्य में एसएपी के रूप में कम कीमतों की पेशकश का विरोध कर रहे हैं और कीमत में कम से कम 350 रुपये प्रति क्विंटल की वृद्धि की मांग कर रहे हैं। केंद्र ने केवल आगामी पेराई सत्र के लिए 290 रुपये प्रति क्विंटल के अल्प एफआरपी (उचित और लाभकारी मूल्य) की घोषणा की थी, जबकि कर्नाटक एसएपी भी 320 रुपये प्रति क्विंटल के कम है।

पीएम संवाद का विरोध

कल यमुनानगर (हरियाणा) अलीपुर गांव में स्थानीय किसानों ने पीएम संवाद कार्यक्रम में शामिल गांव के सरपंच के खिलाफ धरना दिया। स्थानीय विरोध के कारण कार्यक्रम में हड़कंप मच गया। पंजाब के लुधियाना में भाजपा का कोई कार्यक्रम नहीं होने दिया गया।

लोकनीति सत्याग्रह पदयात्रा

चंपारण से वाराणसी तक लोकनीति सत्याग्रह पदयात्रा आज दूसरे दिन में प्रवेश कर गयी। कल भारी बारिश के बावजूद, हजारों लोग महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री की जयंती के उपलक्ष्य में 2 अक्टूबर को निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार पदयात्रा पर निकले। यात्रा रविवार सुबह चंद्रहिया से रवाना हुई और पिपराकोटी से होते हुए रविवार की रात, रात्रि प्रवास के लिए कोटवा पहुंचेगी।

पंजाब में किसानों के खिलाफ केस वापस होंगे

पंजाब के मुख्यमंत्री ने घोषणा की है कि मौजूदा आंदोलन के हिस्से के रूप में रेलवे पटरियों पर कब्जा कर रहे प्रदर्शनकारियों के खिलाफ दर्ज मामले वापस ले लिये जाएंगे। एसकेएम की मांग है कि हरियाणा में भी किसानों के खिलाफ सभी मामले वापस लिये जाएं। कल हरियाणा सरकार ने विरोध कर रहे किसानों को तितर-बितर करने के लिए वाटर कैनन का इस्तेमाल करने के अलावा किसानों के खिलाफ कई मामले दर्ज किये थे। इन मामलों को तुरंत वापस लिया जाना चाहिए।

कपास को नुकसान

उत्तर भारत के कपास उगानेवाले क्षेत्रों के कई जिलों में कपास की फसल को गुलाबी बॉलवर्म के नुकसान के बाद से किसानों की आत्महत्याएं बढ़ रही हैं। संयुक्त किसान मोर्चा ने बीज उत्पादकों और आपूर्तिकर्ताओं की जवाबदेही तय करने के अलावा, सरकारों द्वारा मुआवजे के शीघ्र भुगतान की मांग की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here