उमाकांत मालवीय का नवगीत

0
पेंटिंग : संतोष सील
उमाकांत मालवीय (2 अगस्त 1931 – 11 नवंबर 1982)

आ गये फिर चारणों के दिन

आ गए फिर चारणों के दिन,
लौट आए चारणों के दिन।

सिर धुने चाहे गिरा पछताय
फूल क्या, सौगन्ध भी असहाय
तीर चुन तूणीर से गिन-गिन।

‘मत्स्य भेदन’ तेल पर है दृष्टि
एक फिसलन की अनोखी सृष्टि
बीन पर लेती लहर नागिन।

ध्वजाओं की कोर्निश दरबार
क्रान्तियाँ कर ज़ोर हाथ पसार
दीन बन टेरें, नहीं मुमकिन।

क़सीदे औ’ चमकदार प्रशस्ति
सिर्फ़ एकोऽहं द्वितीयो नास्ति
नहीं सम्भव, सिंह तोड़े तृण।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here