Home Tags Hindi Poet Vishnu Khare

Tag: Hindi Poet Vishnu Khare

विष्णु खरे की कविता

यथार्थ   किसने देखा था पहले-पहल मृग को मरीचिका के पीछे दौड़ते हुए कहां होते हैं वैसे मृग अब मरीचिकाएं लहराती झिलमिलाती हैं अब किधर किन्तु कहावत बन गयी मृग-मरीचिका...

चर्चित पोस्ट

लोकप्रिय पोस्ट