गांधीवादी मृदुता और लोहियावादी विद्रोह का समन्वय थे श्रीनाथ मोदी

0
श्रीनाथ मोदी (20 जून 1904 - 12 जून 1987 )

— अव्यक्त —

विनोबा ने एक बार कहा था कि ‘राजसत्ताएँ तो अनेक आईं और गईं, परन्तु राजसत्ता ने भारत को नहीं बनाया। भारत तो बनाया यहाँ के संतों, फकीरों, और आचार्यों ने।’ आगे ‘आचार्य’ शब्द की परिभाषा बताते हुए उन्होंने कहा था- ‘संस्कृत में शिक्षक को ‘आचार्य’ कहते हैं। ‘आचार्य’ का अर्थ बताया गया है कि ‘अचिनोति अर्थान्। अचिरति। आचारं कारयति।’ यानी जो सब विषयों का अध्ययन करता है, खुद आचरण करता है, और दूसरों से आचरण कराता है, उसका नाम है ‘आचार्य’। गांधीजी, विनोबा और डॉ. लोहिया के दौर में राजस्थान की धरती पर श्रीनाथ मोदी ऐसी ही आचार्यवृत्ति वाले गांधीमना समाज-सुधारक हुए।

जिस वर्ष गांधीजी और कस्तूरबा हमेशा के लिए दक्षिण अफ्रीका से भारत रवाना हुए, उसी साल श्रीनाथ मोदी जी ने केवल 12 वर्ष की अवस्था में अपने पिता को खो दिया। इससे पूर्व का उनका बचपन राजस्थान के देसुरी तहसील के अपने गाँव खोड में बीता था। गाँव में इन्होंने बचपन से कई कुरीतियाँ देखी थीं जिसका असर इनके बाल-मन पर पड़ा था। तब राजस्थान में बाजार में महिलाओं को जूती हाथ में लेकर चलना पड़ता था। कथित निम्न समझी जानेवाली जाति के दूल्हे घोड़ी पर नही बैठ सकते थे। गाँव के नाई, भांभी, कुम्हार, सुथार और दर्जी आदि को बिना पारिश्रमिक लिये बार-बार बेगार करना पड़ता था। बेगार का बोलबाला था। झाड़-फूँक, टोटकों और तरह-तरह के अंधविश्वासों से गाँव के लोग त्रस्त थे। कन्या-विक्रय, बाल-विवाह, शराब, अफीम, भांग, बनावटी रोने की प्रथा और मृत्युभोज आदि अनेक कुप्रथाओं में ग्रामीण समाज बुरी तरह फँसा हुआ था। ये कुप्रथाएँ ही गाँवों की आर्थिक दरिद्रता का भी कारण बनी हुई थीं। बाल श्रीनाथ का कोमल मन भी इन सबके प्रति विद्रोह कर उठता।

वक्त के थपेड़ों से गुजर रहे किशोरवय श्रीनाथ अपनी उम्र के दूसरों बच्चों से ज्यादा परिपक्व और समझदारों की तरह बरतते थे। अपनी बहन के पास जोधपुर में रहकर पढ़ते हुए छात्र जीवन में ही रेजगारी (खुल्ले पैसे) का धंधा करने लगे। विद्यालय के प्राचार्य को जब यह बात पता चली तो उन्होंने इन्हें अपने मकान पर बुलाया और परीक्षा की उत्तर-पुस्तिकाओं से खाली पन्ने निकालकर उसका उपयोग करने की पेशकश की। लेकिन गाँव में अपनी माता की देखभाल करने और घर की जिम्मेदारी उठाने के चलते इन्हें बीच में ही अपनी पढ़ाई छोड़नी पड़ी। लेकिन जैसा कि होता है कि आचार्यवृत्ति के मनुष्यों के लिए औपचारिक उच्च-शिक्षा का न होना भी कभी बाधा नहीं बनता। श्रीनाथ जी ने अपने जीवन से इसे साबित कर दिखाया।

केवल पंद्रह वर्ष की आयु में इन्हें देहाती मास्टर की नौकरी मिली और आगे छह वर्षों तक इन्हें ग्रामीण जीवन का और निकट से अध्ययन करने का अवसर मिला। उसी दौरान वे एक समाज-सुधारक धीरजमल बच्छावत जी के संपर्क में आए जिनके लिखे पैम्फलेट ‘लड़कियों की पुकार’ को पढ़कर ये बहुत प्रभावित हुए थे। उनके साथ मिलकर ही इन्हें समाज-सुधार के लिए गीत लिखने और उनका सार्वजनिक गायन करने की लगन लगी। ‘शुभगीत’ के नाम से इनकी गीतमाला के प्रथम भाग की पांच हजार प्रतियाँ प्रकाशित हुईं। पाली जैन संघ ने इसकी दो हजार प्रतियाँ खरीदकर प्रचारार्थ गाँवों में बंटवाईं। बाद में इसके सत्ताईस भाग छपे। पूरे देश के राजस्थानी प्रवासियों ने इन शुभगीतों को हाथोंहाथ लिया। भारतव्यापी स्तर पर इसका धुआंधार प्रचार हुआ।

इस दौरान ये प्राचार्य भी बने और बाद में 16 वर्षों (1928 से 1942) तक टीचर ट्रेनिंग स्कूल में इन्स्ट्रक्टर भी रहे। इन्स्ट्रक्टर रहने के दौरान ही इन्होंने ग्राम-सुधार पर ऐसा नाटक लिखा जो गाँव की चौपाल पर खेला जा सकता था। ‘गोम जाट’ के नाम से लिखे गए इस नाटक ने धूम मचा दी। इसमें अंधश्रद्धा, अशिक्षा और गरीबी पर गंभीर तंज किया गया था। मुहावरेदार शैली में यह ग्रामीणों के लिए काफी मनोरंजक भी था। पहली बार इन नाटकों को जोधपुर के आसपास के सात गोँवों बड़ली, चौखों, पाल, झालामंड, चौपासनी, कूड़ी और मंडोर में खेला गया। सरल राजस्थानी में लिखा गया यह प्रथम नाटक इतना लोकप्रिय हुआ कि शिक्षा विभाग ने इसे प्रकाशित कर इसका प्रसार करवाया।

सरल-हृदयी श्रीनाथ जी बाल-मन को इतनी गहराई से समझते थे कि इन्होंने एकदम नए स्वरूप में ही गद्यात्मक पद्य में दो बाल-कहानियाँ लिखीं- चियाँ मियाँ और हम साहब, तथा तीन भालू। ये दोनों ही पुस्तिकाएँ पाठशालाओं में सहायक पुस्तकों के रूप में चलीं। ‘चिया मियाँ और हम साहब’ तो बच्चों के बीच इतनी लोकप्रिय थी कि इसके शब्द और भाव कई पीढ़ियों के मन में अभी तक मानो अंकित हैं। केवल 9 पन्नों की यह पुस्तिका अत्यंत रोचक तरीके से बाल-मन में सामाजिक एवं सांप्रदायिक एकता, मानवीय अंतर्निभरता और परस्पर-सहयोग जैसे जीवन-मूल्यों को आत्मसात करा देती है। बालप्रिय श्रीनाथ जी के नाटकों और शुभगीतों का मंचन बच्चे और युवा कभी सब्जी मंडी के पास के चबूतरे को मंच बनाकर, तो कभी मेले तक में किया करते थे। स्वयं श्रीनाथ जी भी हाथ में या ठेले पर हारमोनियम रखकर मित्रों के साथ गाते हुए मुहल्ले-मुहल्ले और गाँव-गाँव पहुँचते थे। पेट्रोमैक्स (जादू की लालटेन) के माध्यम से प्रकाश-ध्वनि और पर्दे का उपयोग कर कुरीतियों के खिलाफ संदेश गाँव-गाँव में पहुँचाते थे।

1935 में श्रीनाथ जी ने ‘ज्ञानमाला’ शृंखला के तहत समाज के ज्वलंत विषयों और कुरीतियों पर 53 पुस्तिकाओं का लेखन और संपादन करके केवल लागत मूल्य पर उनका वितरण किया। इनमें से 23 पुस्तिकाएँ इन्होंने स्वयं लिखी थीं। इन पुस्तिकाओं की विषय-वस्तु देखकर उनके सामाजिक सरोकारों का सहज ही अंदाजा हो जाता है— ग्राम-सुधार कैसे हो?, अर्धभारत (नारियों) की समस्या, स्त्रियों का कार्य-क्षेत्र क्या हो?, सत्यानाश कैसे हुआ?, फिर अछूत क्यों?, जापान के गांधी कौन?, चरखे की आत्मकथा, वेश्यावृत्ति कैसे रुके?, नशा या नाश?। इस शृंखला की 30 पुस्तिकाएँ उन्होंने भिन्न-भिन्न लेखकों से लिखवायीं जिनमें प्रमुख थे- जैनेन्द्र कुमार, रामनाथ सुमन, संतराम बी.ए. और दरबारीलाल सत्यभक्त। इन सभी लेखकों को श्रीनाथ जी ने जितना बन सका उतना पारिश्रमिक भी दिया। जैनेन्द्र कुमार जी ने इस प्रसंग में कहा था कि इतना कम पारिश्रमिक अपने जीवन में पहली बार मिला। एक बार तो इनकार भी करना चाहा, लेकिन यह श्रीनाथ जी का प्रेम ही था कि अंत में स्वीकार कर लिया।

श्रीनाथ जी कोश (डायरेक्टरी) लेखन कला में भी माहिर थे। शास्त्रीय संगीत और प्राकृतिक जीवन में भी इनकी गहरी रुचि थी। जोधपुर में इन्होंने ‘प्राकृतिक चिकित्सा संघ’ की भी स्थापना की थी। जीवन के हर कार्य में निपुणता और कार्यकुशलता कैसे लाएँ, इसपर इनका विशेष जोर रहता था। 1938 में इन्होंने इस विषय पर दो पुस्तिकाएँ लिखी थीं- ‘निपुण कैसे बनें?’ और ‘कार्य करने का उत्तम ढंग’। वे इंग्लैंड के हर्बर्ट एन. कैसन के ‘एफिसियेंसी मूवमेंट’ अथवा निपुणता आंदोलन से प्रभावित थे। श्री कुन्दनलाल दवे जी के सहयोग से 1956 में श्रीनाथ जी ने जोधपुर में ‘दी इंस्टीच्यूट ऑफ एफिशियेंसी’ की भी स्थापना की।

श्रीनाथ जी ने कई वर्षों तक ‘माड़वाड़ शिक्षक’ त्रैमासिक पत्रिका का संपादन किया। उन्होंने ‘हंड्रेड गेम्स ऑफ साइलेंट रीडिंग’ का हिंदी अनुवाद भी किया। इसके अलावा इन्होंने बच्चों को सरल भाषा में अंकगणित सिखाने के लिए पाँच पुस्तकें भी लिखीं जो विभागीय लापरवाही की वजह से अप्रकाशित ही रह गईं।

जैसा कि हर दौर में समाज सुधारकों साथ होता आया है श्रीनाथ जी को भी समाज के रूढ़िवादी तत्त्वों की ओर से बाधाओं का सामना करना पड़ा। इन्होंने जो मृत्युभोज के विरोध में बच्चों को गीत सिखाए थे, इससे कई अभिभावक नाराज हो गए और एक बार इनकी विद्याशाला में हंगामा करके उसकी आड़ में फौजदारी मुकदमा तक कर दिया। हालाँकि न्यायमूर्ति की सूझ-बूझ से वह मुकदमा खारिज हो गया। सुधारक प्रवृत्ति की वजह से कई बार इन्हें अपने कुल-परिजनों के बीच भी कुप्रथाओं का अहिंसक और रचनात्मक विरोध कर उनका हृदय परिवर्तन करना पड़ा।

स्वयं अपनी पुत्री की शादी में पारंपरिक नशीले पेय (आकोती) से स्वागत किए जाने के परिजनों के अनुरोध का इन्होंने विरोध किया। बहुत बहसबाजी हुई तो स्वरचित गीत गाने लगे –

खोलो नशेबाज की पोल सबों रे सामने जी..

देखो लाल आँख रो रंगसमझो पीवी है इण भंग।

इनरे घरवाला है तंगनशे रे कारणे जी…

अपने पिता की मृत्यु के समय तो श्रीनाथ जी केवल 12 वर्ष के थे, लेकिन जब बाद में उनका विवाह होने लगा तब गाँव के ओसवाल पंचों ने उनसे मौसर (मृत्युभोज) कराने को कहा। इन्होंने पंचों से कहा कि मैं मृत्युभोज का कट्टर विरोधी हूँ। मैं न तो मृत्युभोज खाने के लिए जाता हूँ और न ही खिला सकता हूँ। पंचों ने कह दिया कि मृत्युभोज नहीं होगा तो कोई भी नातेदार विवाह में शरीक नहीं होगा। श्रीनाथ जी कहा- ‘चाहे कुछ भी हो जाय, मैं मृत्युभोज नहीं करूंगा।‘ आखिरकार मृत्युभोज नहीं ही हुआ।

अंग्रेज अधिकारी ए.पी. कोक्स तत्कालीन जोधपुर राज में शिक्षा विभाग के प्रमुख थे। प्रतिभाशाली होने की वजह से उनकी नजर श्रीनाथ जी पर रहती थी। आजादी का आंदोलन जोरों पर था। सरकारी सेवा में होने के बावजूद आम सभाओं में श्रीनाथ जी दर्शक के रूप में हमेशा ही जाते रहते थे। गुप्तचर विभाग ने यह सूचना ए.पी. कोक्स को दे दी। उस जमाने में अंग्रेज अफसरों को सैल्यूट किए जाने का रिवाज था। लेकिन श्रीनाथ जी द्वारा कोक्स को सैल्यूट न किए जाने से भी वे नाराज थे। कोक्स साहब तो इनको निकालने का बहाना ढूंढ़ ही रहे थे। तो पहले श्रीनाथ जी से स्काउट मास्टरी का तमगा छीना गया। और बाद में पदावनत भी किया गया। अपने स्वाभिमान को धक्का लगने से इन्होंने सरकारी सेवा से त्यागपत्र देकर व्यवसायी का स्वावलंबी जीवन जीना ही ठीक समझा। इसके लिए इन्होंने राजस्थान से बाहर कानपुर जाकर कई प्रकार की प्रबंधकीय जिम्मेदारियाँ संभाली। लेकिन जोधपुर से सरदारमल थानवी जी जैसे सात्विक व्यक्तित्व के अत्यंत स्नेहिल मनुहार पर इन्हें वापस आना पड़ा। उसके बाद से जीवनपर्यंत इन्होंने ‘सुमेर प्रेस’ और ‘किताब-घर’ के माध्यम से सबकी सेवा की।

श्रीनाथ मोदी जी को अभिनंदन पत्र अर्पित करते हुए मूर्धन्य साहित्यकार जैनेन्द्र कुमार

जैनेन्द्र जी ने कभी लिखा था— ‘आधुनिक बाज़ार अनैतिकता की व्यवस्था है। इसमें सारे मानवीय रिश्ते समाप्त हो जाते हैं। मनुष्य केवल विक्रेता और खरीददार के दो वर्गों में बँट जाता है। एक का लाभ दूसरे की हानि में बदल जाता है।’ लेकिन श्रीनाथ जी ने बाजार के इस मायावी व्यापारी को कभी स्वयं पर हावी न होने दिया। उन्होंने इसे एक सामाजिक कर्म मानकर किया। ग्राहक के विश्वास को इसकी बुनियाद में रखा और ईमानदारी को सबसे ऊपर रखा। 1946 से आजीवन पुस्तक विक्रेता रहे। किताब-घर के माध्यम से इन्होंने पाठकीयता बढ़ाने पर भी कई प्रयोग किए। इस विशाल दुकान के हॉल में नवीनतम पुस्तकें भी पुस्तक रैक से निकालकर कोई भी पढ़ सकता था। फारूक आफ़रीदी साहब ने अपने ताजा संस्मरणात्मक लेख में इस प्रसंग का जिक्र किया है। श्रीनाथ जी ने ‘प्रथम ग्राहक पुरस्कार योजना’ के नाम से एक अनोखी योजना चलाई। प्रतिदिन जो पहला ग्राहक आता था उसका पता नोट कर लिया जाता था और साल के अंत में उन्हें आमंत्रित कर उपहार दिया जाता था। विशेषकर छात्र प्रथम ग्राहक बनने को बहुत उत्सुक रहते थे और स्लेट पर अपना नाम और पता लिखा देखकर बहुत खुश होते थे। ‘बसंत पुस्तक मेले’ के नाम से जोधपुर में कई पुस्तक प्रदर्शनियाँ भी उन्होंने आयोजित कीं।

सन 1968 का प्रसंग है। डॉ. लोहिया के विचारों से प्रभावित जोधपुर के कुछ प्रगतिशील युवजनों ने ‘समाजवादी युवजन सभा’ की स्थानीय इकाई के गठन के उद्देश्य से नगर परिषद भवन के सभागार में सम्मेलन के आयोजन का फ़ैसला किया। सभा की अध्यक्षता के लिए नगर के नामचीन प्रगतिशील प्राध्यापकों व वकीलों में से कोई भी खुलकर सामने आने को राजी नहीं हुआ। तब महात्मा गांधी के अनुयायी श्रीनाथ जी ने अपनी स्वीकृति देकर युवजनों को नेतृत्व प्रदान किया। श्री कृष्णराज मेहता ने लिखा है कि जोधपुर के युवाओं के लिए श्रीनाथ जी एक ‘जंगम विद्यापीठ’ यानी चलती-फिरती पाठशाला ही थे। श्रीनाथ जी के गीत की पंक्तियों- मांडो अरटियो, सीखामण साचीरे। मांडो। गांधीजी तो देश रो उपकार करियो रे। मांडो।।’ ने ही युवा कृष्णराज जी में गांधीजी और खादी के प्रति आकर्षण पैदा किया था।

गांधीजी, विनोबा और डॉ. राममनोहर लोहिया के विचारों से संस्कारित उनके दोनों पुत्रों सुज्ञान मोदी और विज्ञान मोदी को उनके जीवन को बहुत निकट से देखने-समझने का अवसर मिला। वे कहते हैं कि जीवनभर श्रीनाथ जी ने न कोई जमीन ख़रीदीन मकान बनाया और न ही कोई जेवर ख़रीदा। संस्थागत बैंक खाते से अलग अपना कोई व्यक्तिगत बैंक अकाउंट तक नहीं रखा। 

श्रीनाथ मोदी आजीवन प्रसिद्धि व सम्मान के लोभ से कोसों दूर रहे। फिर भी जोधपुर के नागरिकों में उन्हें अस्सी वर्ष की आयु में यह कह कर मना लिया कि अब तो आप अस्सी पार हो चुके हैं और अब आपके शरीर पर आपका कोई अधिकार नहीं है। इस तरह श्री जैनेन्द्र कुमार जी की अध्यक्षता में जोधपुर के टाउनहॉल में उन्हें ‘महा नागरिक सम्मान’ से विभूषित किया गया। श्रीनाथ जी के इस अमृत महोत्सव में जैनेन्द्र जी पत्नी सहित सम्मिलित हुए और कहा कि आज मोदी जी के रूप में सचमुच एक महा नागरिक सम्मानित हुआ है।

चलते-चलते ‘अहलकारों को ओलम्मो’ शीर्षक से लिखी उनकी वह कविता जो तत्कालीन ब्रिटिश शासन द्वारा जब्त कर ली गई थी—

पब्लिक के नौकर अहलकार अफसर मनमानी करते हैं,

ले कानूनों की ओट खोट खा जेबें अपनी भरते हैं।

दिखलाकर आँखें लाल लाल, मानो पिण्डी को पकड़ रहे,

दस्तूरी का दस्तूर बता, पब्लिक के पैसे हरते हैं।

हो एक मिनट का काम जहाँ, घंटों भर टाला करते हैं,

जो पूछें कारण देरी का तो ऐंठ बांध कर जश्ते हैं।

जिस काम के हित तनख्वाह पाते, वह करते हैं खोटाई से,

गरजें करवा कर काम करें, एहसान बड़ा सिर धरते हैं।

मन से महाराजा बन करके, हैं चार इंच ऊँचे रहते,

पब्लिक से प्रेम बढ़ाने में नाहक मन ही मन डरते हैं।

गाँवों में इनका जुल्म महा बेगारों में सब काम लहें,

पानी ईंधन दही दूध मंगा कर माल मुफ्त में चरते हैं।

नाई बारीसर बुलवा कर बरतन जूठे मंजवाते हैं,

देना उनको कुछ दूर रहा उल्टा बेइज्जत करते हैं।

अनुभव में जैसी आई है ‘श्री’ ‘धीरज’ ने सच्ची कह डाली,

सब जगह बहुत से अहलकार ऐसे कर कार गुजरते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here