चंद्रकांत देवताले की कविता

0
पेंटिंग : प्रयाग शुक्ल
चंद्रकांत देवताले (7 नवंबर 1936 – 14 अगस्त 2017)

औरत

 

वह औरत

आकाश और पृथ्वी के बीच

कब से कपड़े पछीट रही है,

 

पछीट रही है शताब्दियों से

धूप के तार पर सुखा रही है,

वह औरत आकाश और धूप और हवा से

वंचित घुप्प गुफा में

कितना आटा गूँथ रही है?

गूँथ रही है मनों सेर आटा

असंख्य रोटियाँ

सूरज की पीठ पर पका रही है

 

एक औरत

दिशाओं के सूप में खेतों को

फटक रही है

एक औरत

वक्त की नदी में

दोपहर के पत्थर से

शताब्दियाँ हो गयीं

एड़ी घिस रही है,

एक औरत अनंत पृथ्वी को

अपने स्तनों में समेटे

दूध के झरने बहा रही है,

एक औरत अपने सिर पर

घास का गट्ठर रख

कब से धरती को

नापती ही जा रही है,

 

एक औरत अँधेरे में

खर्राटे भरते हुए आदमी के पास

निर्वसन जागती

शताब्दियों से सोयी है,

 

एक औरत का धड़

भीड़ में भटक रहा है

उसके हाथ अपना चेहरा ढूँढ़ रहे हैं

उसके पाँव

जाने कब से

सबसे

अपना पता पूछ रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here