Home » गिरधर राठी की तीन कविताएं

गिरधर राठी की तीन कविताएं

by Rajendra Rajan
0 comment 33 views

जब ये शब्द भी भोथरे हो जाएंगे

 

चोर को कहा चोर

वह डरा

थोड़े दिन

डरा क्योंकि उस को पहचान लिया गया था

 

चोर को कहा चोर

वह खुश हुआ

बहुत दिनों तक रहा खुश

क्योंकि उसे पहचान लिया गया था

 

फिर छा गया डर

क्योंकि चोर आखिर चोर था

बोलने वालों के हाथ सिर्फ हाथ थे

हाथ भी नहीं केवल मुंह थे

मुंह भी नहीं केवल शब्द थे

शब्द भी नहीं

केवल शोर…

 

चोर! चोर!!

इस्लाह

हमें भी एक दिन

एक दिन हमें भी

देना होगा जवाब

 

इसलिए

लिखें अगर डायरी

सही-सही लिखें

और अगर याचिका लिखनी है

लिखें समझ-बूझ कर

 

लेकिन अगर चैन न हो हमारा आराध्य

और हम रह सकें बिना अनुताप के

तब न करें स्याह ये

धौले-उजले पन्ने!

मेरे आका!

 

मेरे आका!

(तुम एक हो, तो; अनेक हो, तो;

    हो, तो; न हो, तो।)

मैं थक गया हूं अपना

चेहरा बदलते-बदलते

 

मारुति में बैठें, तो

जनपथ पर चलूं, तो

मकई खाऊं, तो

कहीं न जाऊं, तो

कहीं नहीं अँटता यह चेहरा

 

मेरे आका!

मैं थक गया हूं जीभ ऐंठते-ऐंठते

थक गया हूं कपड़े की काट से

ग़लीचे फ़र्श खिड़की की ठाठ से

 

मेरे आका!

फूल में बची रहने दो थोड़ी-सी खुशबू

जीभ में रहने दो कुछ स्वाद

जी में रहने दो कुछ लगाव

जेब में रहने दो कुछ सिक्के

मेरे आका!

बदलता नहीं मेरी चमड़ी का रंग

तुम्हारे व्याख्यानों से

या कारख़ानों से

You may also like

Leave a Comment

हमारे बारे में

वेब पोर्टल समता मार्ग  एक पत्रकारीय उद्यम जरूर है, पर प्रचलित या पेशेवर अर्थ में नहीं। यह राजनीतिक-सामाजिक कार्यकर्ताओं के एक समूह का प्रयास है।

फ़ीचर पोस्ट

Newsletter

Subscribe our newsletter for latest news. Let's stay updated!