संयुक्त किसान मोर्चा ने जांच पर उठाये सवाल, कार्यक्रमों की तैयारी तेज

0

10 अक्टूबर। संयुक्त किसान मोर्चा ने लखीमपुर किसान हत्याकांड मामले की जांच और पुलिस कार्रवाई जिस तरह चल रही है उसपर कई सवाल उठाये हैं। उत्तर प्रदेश सरकार की एसआईटी द्वारा आशीष मिश्र टेनी को लखीमपुर खीरी किसान हत्याकांड की जांच में सहयोग न करने और अस्पष्ट जवाब के आधार पर गिरफ्तार करने को मोर्चा ने संज्ञान में लिया है। यह तथ्य कि समन धारा 160 सीआरपीसी के तहत थे, जो गवाहों के लिए है, और कि आशीष मिश्रा को निर्दोष और शांतिपूर्वक विरोध करने वाले किसानों की निर्मम हत्या के लिए सवाल नहीं किया जा रहा है, घटनाक्रम एसआईटी जांच, प्रक्रियाओं और गिरफ्तारी में विश्वास पैदा नहीं करता है। अन्य किसी की गिरफ्तारी की सूचना नहीं है, जबकि आशीष मिश्रा टेनी के साथियों के नाम भी सामने आए हैं। एसकेएम एक बार फिर दोहराता है कि सभी सबूतों को संरक्षित किया जाना चाहिए, और यह कि जांच और कानूनी कार्रवाई सीधे सुप्रीम कोर्ट को रिपोर्ट करना ही अभी न्याय पाने का एकमात्र विश्वसनीय तरीका है।

एसकेएम ने कहा है कि है कि अजय मिश्रा टेनी का मोदी सरकार में एक मंत्री के रूप में बने रहना, वह भी गृहमंत्री के तौर पर, पूरी तरह से अक्षम्य और अकल्पनीय है। यह स्पष्ट है कि शत्रुता और द्वेष को बढ़ावा देने, आपराधिक साजिश और हत्या के साथ-साथ अपराधियों को पनाह देने और न्याय में बाधा डालने और सबूतों के साथ छेड़छाड़/छिपाने की कोशिश करने में गृह राज्यमंत्री की भूमिका थी। एसकेएम ने अजय मिश्रा टेनी की गिरफ्तारी और मंत्री पद से बर्खास्तगी की अपनी मांग को दृढ़ता से दोहराते हुए एक बार फिर अल्टीमेटम जारी किया है कि यह मांग 11 अक्टूबर तक नहीं मानी गयी तो मोर्चा पूर्व घोषित कार्यक्रम को शुरू करेगा।

देश से बाहर भी प्रदर्शन

लखीमपुर खीरी किसान हत्याकांड पर न केवल भारत में, बल्कि अन्य देशों में भी न्याय चाहने वाले व्यक्तियों की कड़ी प्रतिक्रिया सामने आयी है। ब्रिटेन और कनाडा में सांसदों की प्रतिक्रियाओं के अलावा, इन देशों के नागरिकों द्वारा भी विरोध प्रदर्शन किया गया, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि न्याय से किसी भी तरह से समझौता न किया जाए।

बरनाला में चेतावनी रैली

रविवार को कई एसकेएम नेताओं की भागीदारी के साथ बीकेयू एकता सिद्धूपुर द्वारा बरनाला, पंजाब में आयोजित “चेतावनी रैली” में किसानों की भारी भीड़ देखी गयी। रैली की मांगों में 3 किसान विरोधी केंद्रीय कानूनों को रद्द करना, सभी कृषि उपज और सभी किसानों के लिए लाभकारी एमएसपी की गारंटी के लिए एक क़ानून बनाना, पंजाब के किसानों के लिए कर्ज माफी और 2017 के चुनावों से पहले पंजाब के किसानों से किए गए सभी चुनावी वादों को पूरा करना शामिल था। रैली ने अजय मिश्रा टेनी पर मोदी सरकार को पुनः अल्टीमेटम भी दिया।

हरियाणा में पुलिस की उलटी चाल

संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा है कि यह गौरतलब है कि हरियाणा पुलिस ने नारायणगढ़ में (जहां सांसद नायब सिंह सैनी की कार से कुचले जाने से एक व्यक्ति घायल हो गया था) प्रदर्शनकारियों के खिलाफ 3 प्राथमिकी दर्ज की हैं और चंडीगढ़ पुलिस ने 40 शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। पुलिस किसानों के खिलाफ उन अपराधों के लिए भी कार्रवाई कर रही है, जो उन्होंने नहीं किए हैं, लेकिन भाजपा के अपराधियों और दोषियों के मामले में ऐसी मुस्तैदी नहीं दिखाई देती है।

धान की खरीद उम्मीद के मुताबिक नहीं

एसकेएम इस पर चिंता जताई है कि 2 अक्टूबर को केंद्र सरकार की स्वीकृति के बावजूद धान की खरीद उम्मीद के मुताबिक शुरू नहीं हुई है। यह राजस्थान पर भी लागू होता है, जहां एफसीआई हनुमानगढ़ और श्रीगंगानगर से खरीद के लिए सहमत हो गया है। एसकेएम की मांग है कि राज्य सरकारें और केंद्रीय एजेंसियां ​​तत्काल धान की खरीद शुरू करें। एसकेएम ने आगे मांग की है कि राजस्थान और हरियाणा में भी बाजरे की खरीद तुरंत शुरू की जानी चाहिए। किसान अपनी उपज घोषित एमएसपी से काफी कम कीमतों पर बेच रहे हैं और इस समय भारी नुकसान उठा रहे हैं। इसी तरह, एसकेएम की मांग है कि पंजाब और हरियाणा में पिंक बॉलवर्म के नुकसान के कारण कपास किसानों को फसल नुकसान के मुआवजे का भुगतान बिना किसी और देरी के तुरंत किया जाए।

लामबंदी तेज

मध्यप्रदेश

एसकेएम मध्य प्रदेश इकाई ने आज अपनी राज्य स्तरीय बैठक की और घोषणा की कि राज्य के सभी 52 जिलों में एसकेएम द्वारा घोषित 12, 15 और 18 अक्टूबर की कार्रवाई के लिए मजबूत लामबंदी होगी। प्रदेश के कम से कम 5000 गांवों में 15 अक्टूबर को नरेंद्र मोदी, अमित शाह, योगी आदित्यनाथ, मनोहर लाल खट्टर, नरेंद्र सिंह तोमर, शिवराज सिंह चौहान आदि का पुतला दहन होगा। रेलवे मार्ग से जुड़े जिले 18 अक्टूबर को रेल रोको कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे।

कर्नाटक

इससे पहले, कर्नाटक में संयुक्त होराटा ने 10 क्षेत्रीय किसान महापंचायतों की योजना सहित कार्यक्रमों की एक श्रृंखला की घोषणा करने के लिए अपनी राज्य स्तरीय बैठक आयोजित की थी।

बिहार

शनिवार को पटना में एआईकेएससीसी बिहार की राज्य स्तरीय बैठक हुई। 12 अक्टूबर को पूरे राज्य में शहीद किसान दिवस मनाया जाएगा। उस दिन कैंडल मार्च और श्रद्धांजलि सभा का आयोजन भी किया जाएगा। पटना में शाम करीब साढ़े पांच बजे गोलंबर स्टेशन पर सभा होगी, जहां से कैंडल मार्च शुरू होगा। बुद्ध स्मृति पार्क पहुंचने के बाद मार्च को श्रद्धांजलि सभा में बदला जाएगा। इसी तरह 15 अक्टूबर और 18 अक्टूबर को एसकेएम के भाजपा नेताओं का पुतला जलाने और रेल रोको के आह्वान को बिहार में लागू किया जाएगा।

उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज के ग्राम ओधिगी तरहर में आज एक मजदूर किसान पंचायत हुई जिसमें किसान, खेतिहर मजदूर, बालू मजदूर, पत्थर खदान मजदूर समेत हजारों नागरिक शामिल हुए। इस पंचायत में महिलाओं ने बड़ी संख्या में भाग लिया। लखीमपुर खीरी किसान हत्याकांड के बाद पूर्वी यूपी में यह पहली पंचायत है। पंचायत ने भाजपा सरकारों की नीतियों के परिणामस्वरूप पत्थर की खदान और रेत खदान श्रमिकों, और कृषि श्रमिकों की आजीविका के नुकसान पर चर्चा की। पंचायत ने 3 केंद्रीय कृषि कानूनों को निरस्त करने और किसानों के लिए एमएसपी गारंटी कानून की मांग करने के अलावा, भाजपा सरकारों की नीतियों के परिणामस्वरूप पत्थर खदान और रेत खदान श्रमिकों, और कृषि श्रमिकों को आजीविका के नुकसान पर चर्चा की। पंचायत ने तय किया कि तिकोनिया में होने वाले अंतिम अरदास में इस क्षेत्र से हजारों लोग हिस्सा लेंगे।

ऐलनाबाद

भाजपा के खिलाफ स्थानीय काले झंडे का विरोध जारी है – कल हरियाणा के ऐलनाबाद में भाजपा चुनाव कार्यालय के उदघाटन के खिलाफ ऐसा ही एक विरोध प्रदर्शन हुआ। इसी तरह, भिवानी में भी भाजपा के एक प्रशिक्षण शिविर के खिलाफ ऐसा ही एक विरोध प्रदर्शन हुआ।

लोकनीति सत्याग्रह पदयात्रा

चंपारण से वाराणसी पदयात्रा के नौवें दिन, लोकनीति सत्याग्रह पदयात्रा बिहार में लगभग 150 किलोमीटर की यात्रा पूरी करके उत्तर प्रदेश पहुंची। यह पदयात्रा 200 किलोमीटर की और दूरी उत्तर प्रदेश में तय करेगी और 20 अक्टूबर को वाराणसी शहर पहुंचने से पहले बलिया, गाजीपुर और बनारस से होकर गुजरेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here